Posts

Showing posts from May 21, 2021

जगदीश स्वामीनाथन Jagdeesh Swaminathan Artist ki Jivni

Image
जगदीश स्वमीनाथन Jagdeesh Swaminathan Artist ki Jivni जगदीश स्वामीनाथ( Jagdeesh Swaminathan ) भारतीय चित्रकला क्षेत्र के वो सितारे थे जिन्होंने अपनी एक अलग फक्कड़ जिंदगी व्यतीत किया ,उन्होंने अपने बहुआयामी व्यक्तित्व में जासूसी उपन्यास भी लिखे तो सिनेमा के टिकट भी बेचें।उन्होंने कभी भी अपनी सुख सुविधाओं की ओर ध्यान नहीं दिया ।   जगदीश स्वामीनाथन का बचपन -(Childhood of Jagdish Swminathan) जगदीश स्वामीनाथन का जन्म 21 जून 1928 को शिमला के एक मध्यम वर्गीय किसान परिवार में हुआ।इनके पिता एन. वी. जगदीश अय्यर एक परिश्रमी कृषक थे एवं उनकी माता जमींदार घराने की थी  और तमिलनाडु से ताल्लुक रखते थे। जगदीश स्वामीनाथन उनका प्रारंभिक जीवन शिमला में व्यतीत हुआ था ।शिमला में ही प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण की यहां पर इनके बचपन के मित्र निर्मल वर्मा और रामकुमार भी थे। जगदीश स्वामीनाथन बचपन से बहुत जिद्दी स्वभाव के थे,उनकी चित्रकला में रुचि बचपन से थी पर अपनी जिद्द के कारण उन्होंने कला विद्यालय में प्रवेश नहीं लिया। उन्होंने हाईस्कूल पास करने के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय की PMT परीक्षा (प्री मेडिकल टेस्ट) में

श्री राम स्तुति|Sri Ram Stuti

Image
श्री राम : Sri Ram Stuti : : श्री  राम स्तुति: श्रीरामचन्द्र कृपालु भजमन  हरणभवभयदारुणं।  नवकंजलोचन कंजमुख करकंज पदकंजारुणं ॥१॥ कन्दर्प अगणित अमित छवि नवनीलनीरदसुन्दरं।  पटपीतमानहु तडित रूचिशुचि नौमिजनकसुतावरं ॥२॥ भजदीनबन्धु दिनेश दानवदैत्यवंशनिकन्दनं।  रघुनन्द आनन्दकन्द कोशलचन्द्र दशरथनन्दनं ॥३॥ शिरमुकुटकुण्डल तिलकचारू उदारुअंगविभूषणं।  आजानुभुज शरचापधर संग्रामजितखरदूषणं ॥४॥ इति वदति तुलसीदास शङकरशेषमुनिमनरंजनं।  ममहृदयकंजनिवासकुरु कामादिखलदलगञजनं ॥५॥ मनु जाहि राचेउ मिलिहि सो बरु सहज सुन्दर सावरो।  करुना निधान सुजान सीलु सनेहु जानत रावरो ॥६ एही भाँति गौरी असीस सुनी सिय सहित हिय हरषींअली।  तुलसी भवानी पूजी पुनि-पुनि मुदित मन मन्दिर चली ॥७॥ जानी गौरी अनुकूल सिय हिय हरषु न जाइ कहि।  मंजुल मंगल मूल बाम अंग फरकन लगे ॥८॥                 Sri RAM stuti in English                               |Doha| Shri Ramachandra Kripalu Bhajuman, Harana Bhavabhaya Daarunam । Navakanja Lochana Kanja Mukhakara, Kanja Pada Kanjaarunam ॥ Kandarpa Aganita Amita Chhav Nava, Neela Neerara Sundaram । Patapita Maa