Posts

Showing posts from December 31, 2019

असित कुमार हलदार आर्टिस्ट की biography

Image
 असित कुमार हाल्दार आर्टिस्ट की बायोग्राफी असित कुमार हाल्दार एक कल्पना शील, भावप्रवण चित्रकार के साथ साथ अच्छे साहित्यकार ,शिल्पकार, कला समालोचक,चिंतक,कवि,विचारक भी थे। असित कुमार हाल्दार का प्रारंभिक जीवन--- असित कुमार हलदार का जन्म सन 1890 पश्चिम बंगाल के जोड़ासांको नामक स्थल में  स्थित टैगोर भवन  के एक प्रतिष्ठित परिवार में हुआ था। इनकी नानी रवींद्र नाथ टैगोर की बहन थीं।   असित कुमार हलदार के बाबा  का नाम राखालदास हाल्दार था  जो उस समय लंदन विश्वविद्यालय में संस्कृत विषय के प्राध्यापक थे, और पिता सुकुमार हाल्दार भी कला में निपुण थे  ,उनकी प्रेरणा से असित कुमार हलदार को भी कला में अभिरुचि जगी। साथ मे वो बचपन से ही ग्रामीणों के बीच रहकर उनकी पटचित्र कला को गौर से देखा और समझा था।  15 वर्ष की आयु में हाल्दार को कलकत्ता के गवर्नमेंट स्कूल ऑफ आर्ट में दाखिला मिल गया , यहां पर इनको गुरु के रूप में  अवनींद्र नाथ टैगोर का सानिध्य मिला। उनसे उन्होंने कला की बारीकियों को सीखा,  यहां पर इन्होंने जादू पाल और बकेश्वर पाल से मूर्तिकला सीखी।    यहां आपको पर असित कुमार हाल्दार को अपने कक्षा में अन्

बथुआ के फायदे importance of bhathua vegetable

Image
बथुआ को कुछ जगह चिल्लीशाक भी कहते है ,संस्कृत में भी इसे चिल्लिका कहते हैं। जो गेंहू के खेतों में खरपतवार के रूप में भी अपने आप उग जाता है ,पर इसके अत्यधिक लाभ के कारण किसान सीधे भी खेतों में लगाते हैं। बथुआ  एक पत्तेदार सब्जी है जो भारतीय थाली में जाड़े में बथुआ का रायता के रूप में और  स्वादिष्ट बथुआ के पराठे के रूप में हर घर में मिलता है, स्वास्थ्य के दृष्टीकोण के रूप में  भी  फायदेमंद होने के साथ ये औषधीय गुण से भरपूर होता है।  बिटामिन ए का स्रोत- -   बथुआ बिटामिन ए का महत्वपूर्ण स्रोत है,शोध से पता चला है की सबसे अधिक बिटामिन ए  बथुआ में ही पाया जाता है,इसके अलावा बिटामिन बी और बिटामिन सी भी बथुआ में पाया जाता है। इम्यून सिस्टम करे मजबूत --- रोग प्रतिरोधक तंत्र के कमजोर होने पर कई रोग उत्पन्न हो जाते हैं भथुआ की सब्जी में सेंधा नमक मिलाकर मट्ठा के साथ सेवन करना चाहिए जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है। त्वचा रोग में लाभदायक-- -   बथुआ त्वचा रोग दूर करने में भी सहायक है, इसमें रक्तशोधक गुण होता है,रक्त शोधक गुणों के कारण इसको उबालकर पीने और इसकी सब्जी खाने स