Posts

Showing posts from May 4, 2021

जगदीश स्वामीनाथन Jagdeesh Swaminathan Artist ki Jivni

Image
जगदीश स्वमीनाथन Jagdeesh Swaminathan Artist ki Jivni जगदीश स्वामीनाथ( Jagdeesh Swaminathan ) भारतीय चित्रकला क्षेत्र के वो सितारे थे जिन्होंने अपनी एक अलग फक्कड़ जिंदगी व्यतीत किया ,उन्होंने अपने बहुआयामी व्यक्तित्व में जासूसी उपन्यास भी लिखे तो सिनेमा के टिकट भी बेचें।उन्होंने कभी भी अपनी सुख सुविधाओं की ओर ध्यान नहीं दिया ।   जगदीश स्वामीनाथन का बचपन -(Childhood of Jagdish Swminathan) जगदीश स्वामीनाथन का जन्म 21 जून 1928 को शिमला के एक मध्यम वर्गीय किसान परिवार में हुआ।इनके पिता एन. वी. जगदीश अय्यर एक परिश्रमी कृषक थे एवं उनकी माता जमींदार घराने की थी  और तमिलनाडु से ताल्लुक रखते थे। जगदीश स्वामीनाथन उनका प्रारंभिक जीवन शिमला में व्यतीत हुआ था ।शिमला में ही प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण की यहां पर इनके बचपन के मित्र निर्मल वर्मा और रामकुमार भी थे। जगदीश स्वामीनाथन बचपन से बहुत जिद्दी स्वभाव के थे,उनकी चित्रकला में रुचि बचपन से थी पर अपनी जिद्द के कारण उन्होंने कला विद्यालय में प्रवेश नहीं लिया। उन्होंने हाईस्कूल पास करने के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय की PMT परीक्षा (प्री मेडिकल टेस्ट) में

RTPCR ka full form kya hai| RTPCR क्या है

RTPCR का full form क्या है। R. T. P. C. R. का फूल  फॉर्म हिंदी में   रिवर्स ट्रांस्क्रिप्शन पालीमर चेन रिएक्शन R - Reverse  T -Transcription  P- Polymer C- Chain R- Reaction   आर टी पी सी आर परीक्षण क्या है - R. T. P. C. R. टेस्ट में गले और नाक स्वैब को लैब में ले जाकर परीक्षण किया जाता है , इस परीक्षण में वायरस के सेल के अंदर एकल कड़ी  RNA (Single Helix)  को DNA डबल हेलिक्स  (Double  Helix) में बदला जाता है , इस प्रक्रिया को रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन कहते हैं उसके बाद DNA की काउंटिंग की जाती है , इस प्रक्रिया को पॉलीमर चेन रिएक्शन कहते हैं।   आरटी-पीसीआर किसी भी रोगज़नक़ में विशिष्ट आनुवंशिक सामग्री  और उसमे उपस्थित वायरस की उपस्थिति का पता लगाने के लिए एक परमाणु-व्युत्पन्न विधि है।    मूल रूप से इस विधि ने निश्चित कर दिए गए आनुवंशिक सामग्रियों का पता लगाने के लिए रेडियोधर्मी आइसोटोप मार्करों का उपयोग किया था ।     लेकिन बाद में  रिसर्च ने विशेष मार्करों के साथ प्रयोग होने लगे फ्लोरेसेंट रंजक का प्रयोग होने लगा।    यह तकनीक वैज्ञानिकों को प्रक्रिया को जारी रखते हुए लगभग तुरंत परिणाम देखने