Posts

Showing posts from July 17, 2019

विलियम मोरिस डेविस भूगोलविद की जीवनी

Image
 विलियम मोरिस डेविस भूगोलविद की जीवनी: मोरिस डेविस का प्रारंभिक जीवन विलियम मोरिस डेविस का जन्म फिलाडेल्फिया  यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका में हुआ था । डेविस ने हारवर्ड  से1869 में स्नातक की उपाधि ग्रहण की,सन 1870 से 1873 तक वह अर्जेंटीना के कार्डोबा के मौसम विज्ञान वेधशाला में सहायक के रूप में काम किया , हार्वर्ड से वापस लौटने के बाद इन्होंने वह भूगर्भीय व भूआकृति विज्ञान का अध्ययन किया,सन 1876 में उसे सहायक प्रोफेसर का शेलर का सहायक बना और उनके साथ रहकर भूगर्भ विज्ञान और भूआकृति विज्ञान का अध्ययन करने लगा 1878 में अस्सिटेंट प्रोफ़ेसर बने और 1899 में प्रोफ़ेसर नियुक्त हुए  1890  विलियम डेविस ने सार्वजनिक  स्कूलों में भूगोल के मानकों को निर्धारित किया उनके अनुसार प्राथमिक विद्यालयों ,माध्यमिक विद्यालयों में भूगोल को विज्ञान की तरह शिक्षा देना चाहिए ,डेविस ने भूगोल को विश्व विद्यालय स्तर पर पढ़ाये जाने के लिए उपयुक्त पाठ्यक्रम बनाने में सहायता प्रदान की। 1904 में वह अमेरिका के सारे प्रशिक्षित भूगोलवेत्ताओं से मुलाकात की ,और इन शिक्षाविदों का संगठन तैयार किया। 1904 में एसोसिएशन ऑफ अमेरिकन जिओग

Chandrayaan-2 launch | ISRO Chandrayaan 2 Moon Mission Launch

Image
                   Chandrayaan-2 launch       |चाँद और चन्द्रयान|                 चाँद किसी ज़माने से  ही  हर व्यक्ति को लुभाता रहा ,कवि ,चित्रकार, ज्योतिषी, चाँद को देवता की संज्ञा दी गई, चाँद का रहस्य इंसानों को अंतरिक्ष के अनुसन्धान के लिए लुभाता रहा है ,  वैज्ञानिकों के अनुसार चांद का जन्म 450 करोड़ साल पहले हुआ था, इस बारे में कहना है कि विशाल गृह" थिया" के पृथ्वी में टकराने से चांद का जन्म हुआ था, चांद के चट्टानी टुकड़ों में थिया नाम के ग्रह की निशानियां दिखती है।         चन्द्रमा का व्यास क़रीब 3,476 किलोमीटर है जो पृथ्वी के व्यास का एक चौथाई है,चन्द्रमा का भार पृथ्वी के भार से 81 गुना कम है,चन्द्रमा की सतह पर गुरुत्वाकर्षण शक्ति पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति की छठे भाग के बराबर है ,चन्द्रमा पर वायुमण्डल नहीं है। चांद के ध्रुवों पर बर्फ़ मिलने के सबूत चंद्रयान प्रथम से मिले है।    आज अमेरिका और कई अन्य देश जहां मंगल पर मानव भेजने की तैयारी कर रहे है वहीँ चाँद के अनेक अभियान भेजने के बाद 1972 के बाद  अभी तक कोई मून मिशन अमेरिका ने नही रवाना किया। परंतु चन्द्रमा