Posts

Showing posts from July 17, 2019

Satish Gujral Artist की जीवनी हिंदी में

Image
    सतीश गुजराल आर्टिस्ट की जीवनी--  Biography of  Satish Gujral Artist --   सतीश गुजराल बहुमुखी प्रतिभा के धनी एक प्रसिद्ध भारतीय चित्रकार,मूर्तिकार वास्तुकार,लेखक हैं जिनका जन्म 25 दिसंबर 1925 को झेलम पंजाब (जो अब पाकिस्तान में है) में हुआ था।इनको देश के दूसरे सर्वोच्च सिविलियन अवार्ड पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।इनके बड़े भाई इंद्रकुमार गुजराल 1997 से 1998 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे है।जो भारत के 13 वें प्रधानमंत्री थे। सतीश गुजराल का बचपन--    जब सतीश गुजराल मात्र 8 साल के थे तब उनके साथ एक दुर्घटना हो गई उनका पैर  एक नदी के पुल में फिसल गया वह जल धारा में पड़े हुए पत्थरो से गंभीर चोट लगी पर  उन्हें बचा लिए गया,इस दुर्घटना के  कारण उनकी टांग टूट गई तथा सिर में गंभीर चोट आई,सिर में गंभीर चोट के कारण उनको एक  सिमुलस नामक बीमारी ने घेर लिया जिससे  उनकी श्रवण शक्ति चली गई। उनकी श्रवण शक्ति खोने,पैर में चोट लगने के कारण उनको लोग लंगड़ा,बहरा गूंगा समझने लगे।वह पांच साल बिस्तर में ही लेटे रहे,यह समय उनके लिए बहुत ही संघर्ष पूर्ण था।इसलिए वह अकेले में खाली समय बैठकर रेखाचित्र बनाने लगे। 

Chandrayaan-2 launch | ISRO Chandrayaan 2 Moon Mission Launch

Image
                   Chandrayaan-2 launch       |चाँद और चन्द्रयान|                 चाँद किसी ज़माने से  ही  हर व्यक्ति को लुभाता रहा ,कवि ,चित्रकार, ज्योतिषी, चाँद को देवता की संज्ञा दी गई, चाँद का रहस्य इंसानों को अंतरिक्ष के अनुसन्धान के लिए लुभाता रहा है ,  वैज्ञानिकों के अनुसार चांद का जन्म 450 करोड़ साल पहले हुआ था, इस बारे में कहना है कि विशाल गृह" थिया" के पृथ्वी में टकराने से चांद का जन्म हुआ था, चांद के चट्टानी टुकड़ों में थिया नाम के ग्रह की निशानियां दिखती है।         चन्द्रमा का व्यास क़रीब 3,476 किलोमीटर है जो पृथ्वी के व्यास का एक चौथाई है,चन्द्रमा का भार पृथ्वी के भार से 81 गुना कम है,चन्द्रमा की सतह पर गुरुत्वाकर्षण शक्ति पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति की छठे भाग के बराबर है ,चन्द्रमा पर वायुमण्डल नहीं है। चांद के ध्रुवों पर बर्फ़ मिलने के सबूत चंद्रयान प्रथम से मिले है।    आज अमेरिका और कई अन्य देश जहां मंगल पर मानव भेजने की तैयारी कर रहे है वहीँ चाँद के अनेक अभियान भेजने के बाद 1972 के बाद  अभी तक कोई मून मिशन अमेरिका ने नही रवाना किया। परंतु चन्द्रमा