Posts

Showing posts from January 8, 2021

विलियम मोरिस डेविस भूगोलविद की जीवनी

Image
 विलियम मोरिस डेविस भूगोलविद की जीवनी: मोरिस डेविस का प्रारंभिक जीवन विलियम मोरिस डेविस का जन्म फिलाडेल्फिया  यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका में हुआ था । डेविस ने हारवर्ड  से1869 में स्नातक की उपाधि ग्रहण की,सन 1870 से 1873 तक वह अर्जेंटीना के कार्डोबा के मौसम विज्ञान वेधशाला में सहायक के रूप में काम किया , हार्वर्ड से वापस लौटने के बाद इन्होंने वह भूगर्भीय व भूआकृति विज्ञान का अध्ययन किया,सन 1876 में उसे सहायक प्रोफेसर का शेलर का सहायक बना और उनके साथ रहकर भूगर्भ विज्ञान और भूआकृति विज्ञान का अध्ययन करने लगा 1878 में अस्सिटेंट प्रोफ़ेसर बने और 1899 में प्रोफ़ेसर नियुक्त हुए  1890  विलियम डेविस ने सार्वजनिक  स्कूलों में भूगोल के मानकों को निर्धारित किया उनके अनुसार प्राथमिक विद्यालयों ,माध्यमिक विद्यालयों में भूगोल को विज्ञान की तरह शिक्षा देना चाहिए ,डेविस ने भूगोल को विश्व विद्यालय स्तर पर पढ़ाये जाने के लिए उपयुक्त पाठ्यक्रम बनाने में सहायता प्रदान की। 1904 में वह अमेरिका के सारे प्रशिक्षित भूगोलवेत्ताओं से मुलाकात की ,और इन शिक्षाविदों का संगठन तैयार किया। 1904 में एसोसिएशन ऑफ अमेरिकन जिओग

मीरा मुखर्जी आर्टिस्ट की जीवनी

Image
          मीरा मुखर्जी आर्टिस्ट की जीवनी :                       ◆   मीरा मुखर्जी  ◆                          ( 1923-1998) मीरा मुखर्जी एक प्रसिद्ध भारतीय मूर्तिकार और लेखिका थीं। जिन्होंने प्राचीन भारतीय लोककला में आधुनिकता कला का लेप लगाकर एक नवीन शैली को जन्म दिया   इन्होंने जनजातियों के मूर्तिनिर्माण कला "डोकरा" में लास्ट वैक्स पद्धति को मिलाकर अपने स्कल्पचर का निर्माण किया  , ,इन्होंने कांस्य मूर्तियों को भी बनाया  ,भारत सरकार ने इनको कला के नए रूप में योगदान के लिए 1992 में  पदम श्री पुरस्कार से नवाजा।         मीरा मुखर्जी का जन्म 1923 में द्विजेन्द्र मोहन मुखर्जी और मीरापति देवी के  यहाँ  कोलकाता में हुआ था।इन्होंने अपनी प्रारंभिक कला में प्रशिक्षण इंडियन सोसाइटी ऑफ ओरियंटल आर्ट में लिया , शांति निकेतन में ही इनको इंडोनेशिया के प्रसिद्ध पेंटर" एफेडी" के साथ काम करने का अवसर मिला। इनका विवाह 1941 में हुआ  ,परंतु दुर्भाग्य से कुछ ही समय बीतने के बाद इनका अपने पति से तलाक हो गया , परंतु मीरा मुखर्जी ने इतने संघर्ष के बाद भी खुद को आंतरिक रूप से मजबूत रखा,और अपन