Posts

Showing posts from January 25, 2021

राम वी. सुतार मूर्तिकार की जीवनी

Image
 राम वी सुतार मूर्तिकार की जीवनी---- राम वी सुतार का प्रारंभिक जीवन ---राम वी सुतार का जन्म 19 फरवरी 1925 को जिला धूलिया  ग्राम गुंदूर महाराष्ट्र में हुआ था राम जी सुतार भारत के सुप्रसिद्ध मूर्तिकार है इनका पूरा नाम राम वन जी सुतार है ,इनके पिता गाँव मे ग़रीब परिवार से थे ,इनका विवाह 1957 में प्रमिला से हुआ ,इनके पुत्र का नाम अनिल रामसुतार है जो पेशे से वास्तुकार हैं और नोयडा में रहते हैं।   शिक्षा -- इनकी शिक्षा इनके गुरु रामकृष्ण जोशी से प्रेरणा लेकर जे जे स्कूल ऑफ आर्ट में हुआ,1953 में इनको इसी कॉलेज से मोडलिंग विधा में गोल्ड मेडल मिला। कार्य - 1958 में आप सूचना प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार के दृश्य श्रव्य विभाग में तकनीकी सहायक भी रहे 1959 में आपने स्वेच्छा से सरकारी नौकरी त्याग दी और पेशेवर मूर्तिकार बन गए  मोडलर के रूप में औरंगाबाद  आर्कियोलॉजी मे  रहते हुए 1954 से 1958 तक आपने अजंता और एलोरा की प्राचीन  मूर्तियों की पुनर्स्थापन का काम किया।   आप द्वारा निर्मित कुछ मूर्तियां इस प्रकार है -- आपने 150 से अधिक देशों में गांधी जी की मूर्तियां को बनाया --आपने 45 फुट ऊंची चंबल नदी मूर्

OMR का full form क्या होता है

Image
OMR का full form क्या होता है OMR का क्या मतलब होता है । OMR का full form क्या होता है OMR का full फॉर्म है ---optical mark rcognition ओ.एम.आर. का full form है-ऑप्टिकल मार्क रकॉग्निशन 0MR को ऑप्टिकल मार्क रीडर ,Optical Mark Reader भी कहते हैं. OMR   तकनीक का उपयोग तब होता है जब हम  विभिन्न सूचनाओं को एकत्र करने में विकल्पों के प्रयोग करते है। इसमें कागज में विकल्प के सामने के खाने में निशान न लगाकर सही विकल्प के समाने के गोले को काला करना पड़ता है।  किसी एक विकल्प के सही होने पर उस खाली गोले (circle)को ब्लैक रंग से ठीक प्रकार से रंगते है कि गोले का कुछ भी भाग बचा न रह पाए। OMR तकनीक का प्रयोग बैंकिंग क्षेत्र में ,बीमा कंपनियों में विभिन्न एप्लीकेशन को भरने के लिए ,सर्वे एजेंसियों में, परीक्षाओं का संचालन करने वाली एजेंसियां तथा परीक्षा आयोग द्वारा होता है ,फीडबैक प्राप्त करने कंपनियां OMR सीट का प्रयोग करतीं है ,इनमे उत्तर दाता को तीन विकल्पों में एक विकल्प का चयन करना पड़ता है। OMR का क्या तात्पर्य होता है---  विभिन्न ऑफिस में दस्तावेजो (documents)को एकत्र रखने में , विभिन्न प्रकार क

हनुमान बजरंग बाण (Hanuman Bajrang Baan)

Image
 मंगलवार और शनिवार को यदि आप हनुमान बजरंग बाण पढ़तें है तो आपके सारे कार्य निष्कण्टक पूर्ण होते हैं ,सारी बाधाएँ समाप्त होने लगतीं है ,इसलिए बजरंग बाण का पाठ हर व्यक्ति को करना चाहिए,क्योंकि  हनुमान जी संकटमोंचक हैं।   हनुमान बजरंग बाण (Hanuman Bajrang Baan) दोहा निश्चय प्रेम प्रतीति ते, विनय करैं सनमान। तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान।। चौपाई जय हनुमन्त सन्त हितकारी। सुनि लीजै प्रभु अरज हमारी।। जन के काज विलम्ब न कीजै। आतुर दौरि महा सुख दीजै।। जैसे कूदि सिन्धु वहि पारा। सुरसा बदन पैठि विस्तारा।। आगे जाय लंकिनी रोका। मारेहु लात गई सुर लोका।। जाय विभीषण को सुख दीन्हा। सीता निरखि परम पद लीन्हा।। बाग उजारि सिन्धु मंह बोरा। अति आतुर यम कातर तोरा।। अक्षय कुमार को मारि संहारा। लूम लपेटि लंक को जारा।। लाह समान लंक जरि गई। जै जै धुनि सुर पुर में भई।। अब विलंब केहि कारण स्वामी। कृपा करहु प्रभु अन्तर्यामी।। जय जय लक्ष्मण प्राण के दाता। आतुर होई दुख करहु निपाता।। जै गिरधर जै जै सुख सागर। सुर समूह समरथ भट नागर।। ॐ हनु-हनु-हनु हनुमंत हठीले। वैरहिं मारू बज्र सम कीलै।। गदा बज्र तै बैरिहीं मारौ