Posts

Showing posts from March 16, 2020

असित कुमार हलदार आर्टिस्ट की biography

Image
 असित कुमार हाल्दार आर्टिस्ट की बायोग्राफी असित कुमार हाल्दार एक कल्पना शील, भावप्रवण चित्रकार के साथ साथ अच्छे साहित्यकार ,शिल्पकार, कला समालोचक,चिंतक,कवि,विचारक भी थे। असित कुमार हाल्दार का प्रारंभिक जीवन--- असित कुमार हलदार का जन्म सन 1890 पश्चिम बंगाल के जोड़ासांको नामक स्थल में  स्थित टैगोर भवन  के एक प्रतिष्ठित परिवार में हुआ था। इनकी नानी रवींद्र नाथ टैगोर की बहन थीं।   असित कुमार हलदार के बाबा  का नाम राखालदास हाल्दार था  जो उस समय लंदन विश्वविद्यालय में संस्कृत विषय के प्राध्यापक थे, और पिता सुकुमार हाल्दार भी कला में निपुण थे  ,उनकी प्रेरणा से असित कुमार हलदार को भी कला में अभिरुचि जगी। साथ मे वो बचपन से ही ग्रामीणों के बीच रहकर उनकी पटचित्र कला को गौर से देखा और समझा था।  15 वर्ष की आयु में हाल्दार को कलकत्ता के गवर्नमेंट स्कूल ऑफ आर्ट में दाखिला मिल गया , यहां पर इनको गुरु के रूप में  अवनींद्र नाथ टैगोर का सानिध्य मिला। उनसे उन्होंने कला की बारीकियों को सीखा,  यहां पर इन्होंने जादू पाल और बकेश्वर पाल से मूर्तिकला सीखी।    यहां आपको पर असित कुमार हाल्दार को अपने कक्षा में अन्

कोरोना पर एक लेख , कैसे फैला ,कैसे बचें

Image
कोरोना या kovid-19 पर एक आर्टिकल कोरोना का प्रसार दुनिया के 110 देशों तक हो चुका है , दुनिया भर में करीब 2.00 लाख लोग  संक्रमित हैं और करीब 8 हजार व्यक्ति मारे जा चुके हैं  , हर देश में इसके प्रति भय व्याप्त है , चीन से होते हुए  इटली ईरान दक्षिण कोरिया ,जापान ,अमेरिका ,कनाडा, फ़्रांस,जर्मनी,पोलैंड, बेल्जियम स्पेन सहित पूरा यूरोप इसके कारण डरा हुआ है । पूरे दुनिया में इसी तरह की भयावह स्थिति आज से 100 साल पहले 1920 में प्रथम विश्व युद्ध के बाद फैली थी , इसका नाम था स्पेनिश फ़्लू ये भी खाँसी ,ज़ुकाम, बुख़ार, का रोग था ,इसमें दुनिया भर में इस रोग ने अपने पैर पसारे थे ,भारत के मुंबई से होता हुआ उत्तर भारत में फ़ैल गया था ,दुनिया भर में इस रोग से एक साल में डेढ़ करोङ से अधिक लोग मारे गए थे ,आज 100 साल बाद फिर वही आपदा ने दुनिया को अपने जाल में फंसा लिया है । हर देश बचने का प्रयत्न कर रहा है ,पर लगता है की कोविड -19 सभी को अपने शिकार में लेगा ,और जैसा की रिसर्चर ने अपनी रिपोर्ट दी है की ये रोग का वायरस भी एक साल तक अपने को समाप्त नही करेगा और क़रीब एक करोङ लोग मारे जा सकते हैं।      

DSP का full form क्या होता है।डिप्टी एस पी कैसे बनें

डी एस पी का फुल फॉर्म  डिप्टी सुप्रींटण्डेन्ट ऑफ़ पुलिस होता है (Dupty Superintend Of Police)   डी एस पी का पद एस पी से एक पद नीचे होता है और इंस्पेक्टर से बड़ा पद होता है , ये SP के कमांड से निर्देशित होता है ,ये एक सर्किल या पुलिस क्षेत्र का प्रभारी होता है इसी लिए इसे सर्किल ऑफिसर के नाम से या C O के नाम से भी जाना जाता है ।     भर्ती कैसे होती है-  Dy SP की भर्ती केंद्रीय लोक सेवा आयोग  यानि UPSC से भी होती है और राज्य लोक सेवा आयोग से भी होती है ,UPSC में केंद्र शासित प्रदेश के लिए डिप्टी एस पी की भर्ती होती होती है तो राज्य सेवा आयोग अपने राज्य के पुलिस के लिए डिप्टी एस पी की भर्ती करते है ।      इस पद में भर्ती के लिए सामान्य  योग्यता स्नातक ही है , साथ में पुरुष की हाइट 168 सेंटीमीटर और महिला के लिए 156 सेंटीमीटर निर्धारित है ।  परंतु राज्य लोक सेवा आयोग की प्रिलिम्स और मैन्स और इंटरव्यू को cross    करने के बाद एक समग्र मेरिट बनती है जसमे अभ्यर्थी के प्राप्तांक के बाद मेरिट बनती है ,सामान्यता  अभ्यर्थी SDM पोस्ट के बाद डिप्टी SP की पोस्ट को प्रेफर करते हैं , जिससे मेरिट म