Posts

Showing posts from July 3, 2020

Review of fact history four बुक|किरण प्रकाशन|आर्य कॉप्टिशन| ज्ञान पुस्तक|महेश बरनवाल

Image
  Review of fact history four बुक: ज्ञान पुस्तक,महेश बरनवाल किरण प्रकाशन,आर्य कॉप्टिशन विषय प्रवेश--  यदि कोई छात्र इंटरमीडिट के एग्जाम पास करने के बाद कॉम्पटीशन लाइन में प्रवेश करता है तो उसे पुस्तको के चयन में बहुत कंफ्यूज़न होता है। इस review से इतिहास की सही बुक लेने में मदद मिलेगी। Review of four books  आज हम बाज़ार में उपलब्ध चार फैक्ट आधारित बुक्स का रिव्यु करता हूँ ।  क्योंकि ज़्यादातर वनडे एग्जाम रेलवे,एस एस सी, लेखपाल या पटवारी का एग्जाम ग्राम विकास अधिकारी ,कांस्टेबल का एग्जाम,SI का एग्जाम,असिस्टेन्स टीचर्स,DSSB आदि के एग्जाम में इतिहास के फैक्चुअल प्रश्न पूंछे जाते हैं हालांकि वो GS पर आधारित हैं पर उन प्रश्नों हल करने के लिए भी कुछ डीप स्टडी जरूरी है। इसके लिए आप या तो आप ख़ुद नोट्स तैयार करें या फ़िर इन बुक्स की मदद लेकर विभिन्न वनडे एग्जाम में हिस्ट्री के प्रश्नों को आसानी से सही कर पाने में सक्षम हो पाते हैं।  पहली पुस्तक की बात करते है जो इतिहास के फैक्ट पर आधारित है। ज्ञान इतिहास की । इस पुस्तक का संंपादन ज्ञान चंद यादव ने किया है।    इस बुक में इतिहास के बिन्दुओं को क्रमब

I S O का full form क्या होता है

ISO का full form है -------- Intrnational organaization  for standarization   हिंदी में इस संगठन को अतर्राष्ट्रीय मानक संगठन कहते हैं।   संगठन की स्थापना --इस संगठन की स्थापना 20 फरवरी 1947 को की गई थी , इस संगठन का मुख्यालय स्विट्जरलैंड के जिनेवा शहर में है। इस संगठन की आधिकारिक भाषाएं अंग्रेजी ,फ्रेंच,रुशी हैं।    संगठन के कार्य  --इस संगठन को ग्रीक के शब्द  "आईसोस" से  लिया गया है ,इसका अर्थ है समान ,यानी यदि कोई दो वस्तुएं यदि कोई समान मानक पूरा करता है तो तो उन दो वस्तुओं को  प्रदान किया जाएगा, इस प्रक्रिया से किसी वस्तु या उत्पाद को अंतरराष्ट्रीय पहचान मिलती है कि वो वस्तु गुणवत्ता में बेहतर है ,और उन बाहरी देशों के मानक के अनुरूप है।   वर्तमान में इस संगठन से 164 देश लाभ ले रहे हैं। यानी किसी आई एस ओ उत्पाद की मोहर वाली वस्तु इन देशों में अपने बाज़ार को बना सकती है।     यह संगठन वर्तमान में प्रौद्योगिकी से लेकर खाद्य सुरक्षा कृषि और  स्वास्थ्य सेवा हर क्षेत्र में बीस हज़ार मानक तैयार किये हैं।