Posts

Showing posts from December 24, 2020

राम वी. सुतार मूर्तिकार की जीवनी

Image
 राम वी सुतार मूर्तिकार की जीवनी---- राम वी सुतार का प्रारंभिक जीवन ---राम वी सुतार का जन्म 19 फरवरी 1925 को जिला धूलिया  ग्राम गुंदूर महाराष्ट्र में हुआ था राम जी सुतार भारत के सुप्रसिद्ध मूर्तिकार है इनका पूरा नाम राम वन जी सुतार है ,इनके पिता गाँव मे ग़रीब परिवार से थे ,इनका विवाह 1957 में प्रमिला से हुआ ,इनके पुत्र का नाम अनिल रामसुतार है जो पेशे से वास्तुकार हैं और नोयडा में रहते हैं।   शिक्षा -- इनकी शिक्षा इनके गुरु रामकृष्ण जोशी से प्रेरणा लेकर जे जे स्कूल ऑफ आर्ट में हुआ,1953 में इनको इसी कॉलेज से मोडलिंग विधा में गोल्ड मेडल मिला। कार्य - 1958 में आप सूचना प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार के दृश्य श्रव्य विभाग में तकनीकी सहायक भी रहे 1959 में आपने स्वेच्छा से सरकारी नौकरी त्याग दी और पेशेवर मूर्तिकार बन गए  मोडलर के रूप में औरंगाबाद  आर्कियोलॉजी मे  रहते हुए 1954 से 1958 तक आपने अजंता और एलोरा की प्राचीन  मूर्तियों की पुनर्स्थापन का काम किया।   आप द्वारा निर्मित कुछ मूर्तियां इस प्रकार है -- आपने 150 से अधिक देशों में गांधी जी की मूर्तियां को बनाया --आपने 45 फुट ऊंची चंबल नदी मूर्

एफ एन सूजा(फ्रांसिस न्यूटन सूजा) की जीवनी

Image
  फ्रांसिस न्यूटन सूजा (एफ एन सूजा) - ------------       भारत मे कई महान आर्टिस्ट हुए जिन्होंने अपने कठिन जीवन के बाद भी अपनी नई विधा से कला को नया आयाम दिया और दुनिया मे खुद  की बनाई पेंटिंग्स को प्रदर्शित किया और दुनिया के आर्टिस्टों के बीच खुद की पहचान बनाई ,इस कड़ी में एक भारतीय आर्टिस्ट का नाम एफ एन सूजा है।   फ्रांसिस न्यूटन सूजा जिन्हें एफ एन सूजा भी कहा जाता है ,इनका जन्म सन 12 अप्रैल1924 ईसवी को गोवा में सलिगाव नामक स्थान में हुआ था। ये भारत के विख्यात चित्रकार थे।        जब सूजा मात्र तीन साल के थे तभी उनके पिता की मृत्यु हो गई,  पिता की मृत्यु के बाद उनकी माता मुंबई में रहने लगीं  वहां पर उनकी  माता ने कपड़ा सिलाई करके घर के खर्च को चलाया और सूजा का पालन पोषण किया।परंतु बाद में उनकी माता ने सूजा की अस्वस्थता के कारण दादी के पास गोवा भेज दिया।      जब वे युवा हुए तब उन्होंने मुम्बई के सेंट जेवियर कॉलेज में एडमिशन लिया  सूजा प्रारम्भ से विद्रोही  स्वभाव के थे ,सूजा के जीवन मे अनेक व्यथाएँ थी जिसके कारण जिसके कारण उनके मन मे विपरीत प्रभाव पड़ा ,जिसके उनका  स्वभाव विद्रोही हो ग