Posts

बीना दास वीरांगना की जीवनी हिंदी में

Image
बीना दास वीरांगना की जीवनी--  परतंत्रता की बेड़ियों को तोड़ने के लिए अनेकों क्रांतिकारियों ने शहादत दी और कुछ ने कठोर यातनाएं सही ,सिर्फ पुरुष ही आगे नहीं रहे बल्कि कई वीरांगनाओं ने उनके साथ कदमताल करते हुए उनका पूरा साथ दिया और कई क्रान्तिकारी महिलाओं ने ख़ुद मोर्चा भी संभाला और खुद को देश के लिए न्यौछावर कर दिया उनमें से एक नाम शुमार है बीना दास का जिनके नाम से ही अंग्रेज भयभीत हो जाते थे। बीना दास का बचपन-- बीना दास का जन्म 24 अगस्त 1911 को बंगाल के कृष्णा नगर में हुआ था,बीना के पिता बेनीमाधवदास एक प्रसिद्ध अध्यापक थे उनके शिष्यों के फेहरिस्त में सुभाष चन्द्र बोस के नाम भी आता है।    बीना दास   की माता सरला एक सोशल वर्कर थीं। जो पुन्याश्रम नामक संस्था की संचालिका थीं ,इस संस्था का काम मुख्य क्रांतिकारियों की सहायता करना, उन क्रांतिकारियों के लिए हथियार का इंतजाम करना। शिक्षा-- बीना दास ने सेंट जान डियोसिन गर्ल्स कॉलेज सर हाइस्कूल किया ,उनकी बहन कल्याणी दास एक स्वतंत्रता सेनानी थीं।   बीना दास ने हाइस्कूल की  परीक्षा के बाद सुभाष चन्द्र बोस की संस्था बंगाल वालंटियर कार्पस में सम्मिलि

जीका वायरस रोग के लक्षण और बचाव

Image
 जीका वायरस रोग के लक्षण और बचाव--     एक साल पूर्व जीका वायरस का प्रकोप केरल और कुछ दक्षिणी भारत के राज्यों तक सुनने को मिल रहा था,आज 2021 में जीका वायरस के मरीज उत्तर भारत तक पैर पसार चुका है ,मध्यप्रदेश,गुजरात,राजस्थान  में कई जिलों में पैर पसार रहा है जीका वायरस  छोटे शहरों कस्बों तक भी फैल रहा है ,इस रोग के लक्षण वाले मरीज़ उत्तर प्रदेश के,इटावा ,कन्नौज,जालौन ,फतेहपुर में मिले हैं। उत्तर भारत और मध्य भारत तक इसके मरीज  बहुतायत में मिले हैं। कैसे फैलता है जीका वायरस-- जीका वायरस का संक्रमण मच्छरों के द्वारा होता है,वही मच्छर जिनसे डेंगू और चिकुनगुनिया होता है, यानी मच्छर काटने के बाद ही जीका वायरस फैलता है। थोड़ा सा अंतर भी है डेंगू वायरस और जीका वायरस में ,जीका वायरस  से यदि एक बार कोई संक्रमित हो जाता है ,और वह अपने साथी से शारीरिक संबंध बनाता है तो उसे भी संक्रमित कर सकता है,साथ मे संक्रमित माता के पेट मे पल रहे गर्भस्थ शिशु भी संक्रमित हो सकता है, साथ मे  जीका वायरस से संक्रमित व्यक्ति यदि कहीं ब्लड डोनेट करता है ,तो उस  ब्लड में भी जीका वायरस होता है। इस प्रकार ये खून जिसके श

Godrej गोदरेज डिजिटल होम लॉकर की जानकारी

Image
  Godrej गोदरेज डिजिटल होम लॉकर की जानकारी  हिंदी में----- Godrej गोदरेज डिजिटल होम लॉकर -- 420mm×350mm×350mm आयतन का मजबूत स्टील बॉडी से बना गोदरेज का भूरे रंग का ये    होम डिजिटल   लॉकर सभी बाजार उपलब्ध लाकर्स से बढ़िया है ,क्योंकि इसकी कई खूबियां है जो आपको न केवल निश्चिंत रखतीं है बल्कि आपके मूल्यवान कागजों और नकदी,जेवर आदि को सुरक्षा प्रदान करता है क्योंकि इसका लॉकर बेहद प्रभावी है,जिसमें तीन अंक से लेकर छः अंकों तक का कोई पासवर्ड डालकर लॉक कर सकते हैं ,ये लाकर यदि किसी ग़लत व्यक्ति द्वारा खोलने का प्रयास किया जाएगा तो दो बार ग़लत फीडिंग से ऑटो लॉक हो जाता है और Kye Pad फ्रीज़ हो जाता है।इसमें ऑटोमैटिक इंटीरियर लाइट भी लगी है जिससे लाकर  के अंदर रखी हुई  चीजों  को भी आसानी से देख सको। यदि किसी कारण से अंदर के सेल डिस्चार्ज हो जाएं और इंटरनल रोशनी कुछ कम हो जाये तो  आप अपने पावर बैंक से इस स्मार्ट लाकर के सेल को रिचार्ज भी कर सकते हो । ये पासवर्ड यदि किसी कारण वास भूल भी जाते हैं तो एक स्पेशल की (key)की सुविधा भी है। रंग हल्का ग्रे(स्लेटी) ब्रांड Godrej Security Solutions   Electroni

Realme 8 i smart phone review

Image
Realme 8i  Smart Phone Review   Realme 8i स्मार्ट फ़ोन बाजार में उपलब्ध माध्यम मूल्य का बढ़िया स्मार्ट फ़ोन है। इसकी प्राइस 13 हजार से 14 हजार तक है।  यह 4G सपोर्ट करता है।     यह  दो रंग में बाजार में उपलब्ध है पहला ब्लैक कलर का है दूसरा  सुनहरा चमकदार। इसका वजन 198 ग्राम है।   आज ही खरीदें  यह दो  वैरियंट में बाजार में मिल रहा ,पहला 4 GB RAM और 64 GB इंटरनल मेमोरी है और दूसरा 6GB+128 GB         यदि हम इसके कैमरे की बात करें तो इसमें  Rear कैमरा 50मेगा पिक्सेल+2MP+2 MP के है। वहीं फ्रंट कैमरा की बात करें तो यह 16 मेगा पिक्सेल का है।          इसमें बैटरी 5000 mAH की है। इसमें हेलियो 96 प्रोसेसर लगा है।    इसके लेफ्ट हैंड साइड में वॉल्यूम रॉकर है।   इसके राइट हैंड साइड में पावर बटन है  और इसी में फिंगरप्रिंट बटन भी है। इसमें नीचे  स्पीकर ग्रिल है,USB टाइप C माइक्रोफोन  स्लॉट हैं।   6.6" FHD  स्क्रीन 12HZ fast रिफ्रेश rate  इसमें ब्राइटनेस6000 NITS के साथ 90.8स्क्रीन बॉडी रेश्यो है। अडॉप्टिव ब्राइटनेस है। स्क्रीन बॉडी  रेशियो एवरेज साइज की है निष्कर्ष --  बाजार में उपलब्ध सस्ते फ़ोन में

आंतरिक सुरक्षा राइटर अशोक कुमार IPSकी बुक review

Image
आंतरिक सुरक्षा राइटर अशोक कुमार की बुक review:  नमस्कार मित्रों! आज हम आपको भारतीय प्रशासनिक सेवा /राज्य सिविल सेवाओं के GS के लिए दिये गए सिलेबस में एक भाग भारत की आंतरिक सुरक्षा के लिए बताने जा रहा हूँ कि इस भाग से UPSC मेन्स में प्रश्न आते हैं और अभ्यर्थी यदि इस विषय को अच्छे से नहीं पढ़ता तो मैन्स में अधिक अच्छा परफॉर्मन्स नहीं दे पाते ।      आज हम बात करते है किताब                 भारत की आंतरिक सुरक्षा:मुख्य चुनौतियां इस पुस्तक का लेखक थे अशोक कुमार IPS और विपुल DANIPS Buy now इस पुस्तक का बाहरी आवरण बहुत ही आकर्षक है।ऊपरी  भाग में एक व्यक्ति दूरबीन से बॉर्डर के पार के सैनिकों को देख रहा है ।      नीचे पृष्ठ का आधा भाग सफेद है।पुस्तक के पीछे के आवरण में लेखक के बारे में जानकारी दी गई है और पुस्तक के मुख्य आकर्षक बिंदुओं को दिया गया है। नए एडिशन में कवर पृष्ठ की डिज़ाइन बदल दी गई है।      यह पुस्तक टाटा मैक्ग्रा हिल्स का प्रकाशन है और इसके अंदर के पृष्ठ के कागज़ सामान्य है पर छपाई अच्छे से है कहीं कोई मिसप्रिंट नहीं है।  इस पुस्तक में आपको जानकारी मिलेगी की कैसे कश्मीर में आतंकवाद  क

भारतीय चित्रकला विशेषताएँ

Image
  भारतीय चित्रकला की विशेषताएँ-- भारतीय चित्रकला की अपनी विशेषताएं निम्न हैं-- -धार्मिकता -- भारतीय कला की मुख्य विशेषता उसका धर्म से जुड़ाव था।भारत  धार्मिक कार्यों में वैष्णव मत में चित्र रचना का महत्वपूर्ण योगदान है और भगवान विष्णु कृष्ण राम के दर्शन को भक्ति का मुख्य अंग माना गया है,बौद्ध धर्म के धर्म के व्याख्याता के रूप में कला को माना गया है, बौद्ध धर्म को फैलाने में कल का ही योगदान था, पोथी चित्रण जैन धर्म की विशेषताएं है। कल्पना -- भारतीय चित्रकला में कल्पना को आधार बनाया गया है ,कला में हर जगह देवताओं को एक मुकुट लगाए राजा नुमा सजाया जाता था ,ब्रम्हा विष्णु महेश और देवताओं के वाहन में कल्पना ही साकार होती है। अजंता के बौद्ध भिक्षुओं के चित्रों में जन्म जन्मांतर की कहानी कल्पना को ही दिखाती है। प्रतीकात्मकता --- भारतीय कला में प्रतीक चिन्हों को समावेश किया गया है, ॐ चक्र,बृक्ष ,लक्ष्मी आदि का प्रमुख स्थान रहा है। अलंकारिकता --- भारतीय कला में अलंकारिकता के दर्शन होते हैं। भारतीय कला में उपमा के द्वारा अलंकरण किया गया है जैसे कमल के समान नेत्र,चन्द्र के समान मुख , मुगल चित्र व र

पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जीवनी

Image
  दीनदयाल उपाध्याय की जीवनी -- दीनदयाल उपाध्याय भारतीय पॉलिटिशियन,संगठनकर्ता और एक सामाजिक चिंतक थे,उन्होंने हिंदुत्व के विचारधारा को आगे बढ़ाया उनके  संघर्षपूर्ण सादे जीवन यापन और राष्ट्र के लिए चिंतन संघर्षपूर्ण जीवन से न सिर्फ हिंदुत्व को धार दी बल्कि एक जनमानस में उनका पड़ा।   दीनदयाल उपाध्याय का बचपन- -       पंडित   दीनदयाल उपाध्याय का जन्म सितंबर 1916  को मथुरा जिले के एक गांव नगला चंद्रभान में हुआ था,दीनदयाल उपाध्याय को बचपन से ही अत्यधिक संघर्ष करना पड़ा।यद्यपि दीनदयाल उपाध्याय के पिता भगवती प्रसाद उपाध्याय रेलवे में जलेसर में सहायक स्टेशन मास्टर थे,तथा उनकी माता एक धार्मिक प्रवृत्ति की महिला थीं।  दीनदयाल एक छोटे भाई शिवदयाल थे जो उनसे दो वर्ष छोटे थे। दीनदयाल के बाबा का नाम हरिराम उपाध्याय था जो एक ज्योतिषी थे। उन्होंने उनकी जन्म कुंडली देखकर बताया था कि ये बालक अपने जीवन मे अत्यधिक यश प्राप्त करेगा और अविवाहित रहेगा।       दीनदयाल उपाध्याय जब तीन वर्ष के थे तभी उनके पिता का देहांत हो गया ,तब उनकी माता अपने दोनो  पुत्रों  के साथ अपने मायके आ गईं ,जहां पर उनके नाना पंडित चुन्न