Posts

अकबर पद्मसी आर्टिस्ट की जीवनी।

Image
 अकबर पद्मसी आर्टिस्ट की जीवनी।  अकबर पद्मसी आर्टिस्ट की जीवनी हिंदी में। अकबर पद्मसी को एस. एच. रजा ,F N सूजा, M.F. हुसैन की श्रेणी में रखा जाता है। इन्होंने कई विधाओं में कार्य किया , अकबर पद्मसी ने तैल रंग ,जल रंग ,स्कल्पचर और प्रिंटमेकिंग में , लिथोग्राफी,  में कंप्यूटर ग्राफ़िक्स में कार्य किया। अकबर पदमसी  अकबर पदमसी का प्रारंभिक जीवन -- अकबर पद्मसी का जन्म गुजरात के कच्छ क्षेत्र में एक मुस्लिम खोजा जाति में हुआ था ,इनके पूर्वज पहले राज दरबार मे कविता और गायन वादन किया करते थे जिन्हें चारण कहा जाता था। पद्मसी के बाबा काठियावाड़ क्षेत्र के गांव वघनगर के सरपंच थे तब लोंगों ने उनके अच्छे कार्यों के कारण पदमसी की उपाधि दी थी जो वास्तव में पद्मश्री का अपभ्रंश है।पद्मसी के पिता हसन पदमसी एक जाने माने व्यापारी थे जिनका फर्नीचर का व्यापार था वो बहुत धनी थे उनके दस मकान थे।परंतु इतना होने के बावजूद पदमसी परिवार में कोई पढ़ा लिखा व्यक्ति नहीं था ,तब अकबर पद्मसी जो सात भाइयों में से एक थे  ,इनके एक भाई एलिक पदमसी थे जिन्होंने थियेटर रंगमंच में नाट्यदक्षता से अपनी पहचान बनाई थी  वो थिएटर आर्टिस

रामनाथ कोविंद का जीवन परिचय

Image
   राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का जीवन परिचय-- राम नाथ कोविंद का जन्म एक अक्टूबर 1945 को कानपुर से 35 किलोमीटर दूर स्थित तहसील डेरापुर के परौंख गांव में हुआ था ,परौंख गांव डेरापुर  से आठ किलोमीटर दूर है ।                श्री राम नाथ कोविद जी राष्ट्रपति              रामनाथ कोविंद के पिता का नाम मैकूलाल था जो एक किसान थे और माता का नाम कलावती था  जो एक गृहणी थीं। रामनाथ कोविंद  पांच भाइयों और दो बहनों में सबसे छोटे थे ,रामनाथ कोविंद जब केवल पांच वर्ष के थे तभी उनकी माता की मृत्यु हो गई थी।  रामनाथ कोविंद की शिक्षा दीक्षा---     रामनाथ कोविंद के पिता कोरी  जाति के थे जो उत्तरप्रदेश में अनुसूचित जाति(दलित) में आती है। इनके पिता बहुत ही सामाजिक व्यक्ति थे जो समाज के उत्थान में कई कार्यों में भाग लेते थे ,इनके पिता गांव में  आयुर्वेद द्वारा बीमार लोंगों का इलाज करते थे।        रामनाथ कोविंद एक कच्चे घर मे बचपन मे रहे , इनके गांव में उस समय कोई सुविधाएं नहीं थी , प्राथमिक शिक्षा कोविंद जी ने गांव में ही प्राप्त किया परंतु जूनियर स्कूल इनके गांव से छः किलोमीटर दूर खानपुर गाँव मे था , वहां तक जाने

सिंधु घाटी सभ्यता और वैदिक सभ्यता अंतर

 सैन्धव सभ्यता और वैदिक सभ्यता में अंतर: सैन्धव सभ्यता में वैदिक संस्कृति से तुलना करने पर कई तथ्य ऐसे मिलते है जो दोनो जगह में अलग अलग थे दोनो में असमानता थी। 1)सिंधु घाटी सभ्यता में दुर्ग के अवशेष मीले है जबकि वैदिक सभ्यता के लोंगों के पक्के आवास के सबूत नही हैं वैदिक जन बांस और घासफूस के घरों में रहते थे। 2) वैदिक सभ्यता के लोंगो को लोहे ,सोने चान्दी धातुओं  का ज्ञान था जबकि सैन्धव सभ्यता के लोग लोहे से अपरिचित थे। 3)वैदिक सभ्यता के लोग अश्व से परिचित थे परंतु अभी तक ये  शोध के आधार पर ज्ञात है कि सैन्धव लोग घोड़े से अपरिचित थे 4) वेदों में व्याघ्र का तथा हांथी का उल्लेख नहीं है जबकि सैन्धव मुद्रा में व्याघ्र और हाँथी के चित्र अंकित हैं। 5)आर्य लोग  विभिन्न प्रकार के अस्त्र शस्त्र का प्रयोग करते थे जबकि सिंधु घाटी सभ्यता से अस्त्र शस्त्र के प्रमाण नहीं मिले हैं। 6)आर्य लोग मूर्ति पूजक नही थे आर्य सिर्फ देवताओं का आह्वाहन करते थे न कि कोई मूर्ति बनाकर पूजा करते थे वहीं सैन्धव वासी मूर्ति पूजक थे । 7) सैन्धव सभ्यता में मातृ देवी की उपासना होती थी जबकि ऋग्वैदिक काल मे मुख्यता पुरुष देवत

विवान सुंदरम आर्टिस्ट की जीवनी

Image
 विवान सुंदरम की जीवनी-- विवान सुंदरम का जन्म 1943 में शिमला में हुआ था। विवान सुंदरम के मातापिता के बारे में बात करते है तो  आप ये समझो कि   विवान सुंदरम के पिता कल्याण सुंदरम भारतीय विधि आयोग में 1968 से 1971 तक चेयरमैन के पद में आरूढ़ रहे थे और और इनकी माता इंदिरा शेरगिल उस समय की प्रख्यात चित्रकार अमृता शेरगिल   की सगी बड़ी बहन थीं। विवान सुंदरम का विवाह एक जानी पहचानी इतिहासकार और समालोचक गीता कपूर से हुआ था। विवान सुंदरम   विवान सुंदरम की शिक्षा --- विवान सुंदरम की शिक्षा दून स्कूल से हुई,आपकी प्रारंभिक शिक्षा के बाद कला में रुचि जागृति हुई उन्होंने उसी समय सेजान और वानगो द्वारा बनाई गई पेंटिंग्स की अनुकृतियाँ तैयार की। उच्च शिक्षा एम एस विद्यालय बड़ौदा और स्लेड स्कूल ऑफ लंदन में शिक्षा पाई उन्होंने ब्रटिश अमेरिकी पेंटर RB kitaz    से प्रशिक्षण प्राप्त किया। विवान सुंदरम के कार्य--- विवान सुंदरम ने अलग अलग माध्यमों में कार्य किया इसमें स्कल्पचर ,प्रिंटमेकिंग, फोटोग्राफी, इंस्टालेशन और वीडियो आर्ट है ,इनकी कला में भारतीय संस्कृति की छवि ,भारत की सामाजिक समस्याओं को देखा जा सकता है।वह

निकोलस रोरिक आर्टिस्ट की जीवनी

Image
निकोलस रोरिक आर्टिस्ट की जीवनी: निकोलस रोरिक रूस के एक प्रसिद्ध आर्टिस्ट और साहित्यकार दार्शनिक थे जिन्होंने अपने जीवन मे विश्व के कई देशों का भ्रमण किया और अंतिम जगह हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में  एक स्थान पर अपना अंतिम पड़ाव डाला और यही इनकी मृत्यु भी हुई ।      इनका जन्म सेंटपीटर्सबर्ग USSR (  सोवियत रुस ) में 9 अक्टूबर 1874 को हुआ था,इनके माता पिता रशियन मूल के ही थे।   शिक्षा--- इन्होंने 1853 में सेंटपीटर्स बर्ग विश्विद्यालय और इम्पीरियल अकादमी में एक साथ दाखिला लिया और 1897 में आर्टिस्ट की डिग्री प्राप्त की तो 1898 में लॉ की डिग्री प्राप्त की।   इन्होंने शिक्षा प्राप्ति के बाद इम्पीरियल सोसाइटी ऑफ आर्ट ग्रुप में प्रारंभिक शिक्षण कार्य किया 1906 से1917 तक  इस सोसाइटी के लिए सेवा दी।      इनकी प्रारम्भिक रुचि आर्कियोलॉजी तथा स्टेज डिजाइनिंग में थी,उन्होंने कई थियेटर के रंगमंच साजसज्जा में ख्याति प्राप्त की।      इसी समय ये अपने पत्नी से प्रभावित होकर भारत के धर्म और दर्शन को जाने में रुचि जगाई ,उन्होंने रामकृष्ण परमहंस ,विवेकानंद के दर्शन तथा भगवतगीता के दर्शन को जाना समझा। साथ मे वो

शोभा सिंह (shobha singh ) चित्रकार की जीवनी:

Image
 शोभा सिंह (shobha singh ) चित्रकार की जीवनी:   जन्म-- 29 नवंबर 1901 मृत्यु-  22 अगस्त 1986(84 वर्ष की उम्र में)            सरदार शोभा सिंह चित्रकार का जन्म 29 नवंबर1901 को  सिख परिवार में गुरुदास पुर जिले में हुआ था। इनके पिता देवा सिंंह भारतीय सेना में थे शोभा सिंह 1919 में सेना में ड्राफ्ट्समैन के रूप में नियुक्त हुए परंतु 1923 में ही कला में  कुछ नया करने के लिए  सेना से इस्तीफा दे दिया,तथा अमृतसर मैं एक अपना स्टूडियो खोला , कुछ दिनों बाद  उन्होंने  अपना एक स्टूडियो लाहौर दिल्ली और मुंबई में  भी स्थापित किया पर परंतु विभाजन के बाद उन्होंने  लाहौर को छोड़ दिया और हिमाचल प्रदेश के एक अजनबी स्थान  एंड्रेटा में बस गए , यह स्थान  आज  उनकी कला  दीर्घा के कारण  विश्व पटल में  एक पहचान  रखता है ।       शिक्षा  दीक्षा ---------     शोभा सिंह ने 15 वर्ष की उम्र में  अमृतसर  के एक तकनीकी औद्योगिक स्कूल में कला और क्राफ्ट का एक साल का कोर्स किया  उसके बाद इन्होंने  इसी डिप्लोमा के सहारे  इंडियन आर्मी में  ड्राफ्ट्समैन  की नौकरी पाई  सेना में नौकरी के दरमियान  यह  मेसोपोटामिया और मध्य एशिया के

Jogen chaudhari kalakar ki jivni

Image
    जोगेन  चौधरी कलाकार की जीवनी : जोगेन चौधरी का बचपन---   jogen chaudhari (जोगेन चौधरी)  केे जन्म 19 फरवरी 1939 को पूर्वी बंगाल  (आज का बांग्लादेश)  के फरीदपुर क़स्बे मे हुआ था , इनके पिता प्रमथ नाथ चौधरी  ब्राह्मण जमींदार थे , इनके पिता ने गांव  में होने  वाले नाटकों  में   कई  पौराणिक आख्यानों को  दीवार में  पेंट किया था और बहुत से हिंदू आईकॉन  के चित्र भी बनाए थे ,जोगेंन चौधरी की माता अल्पना ड्राइंग करने में दक्ष थीं।       1947 तक  जोगेन  चौधरी गांव के परिवेश  मेंं  ही रहे  1947 में  भारत विभाजन के ठीक पहले  जोगेन और उनके पिता कोलकाता शिफ्ट हो   गए  और 1948 के बाद पूरा परिवार कोलकाता में आकर के बस गया  1951 तक उनका पूरा परिवार अपने चाचा के पुलिस डिपार्टमेंट के क्वार्टर में ही रहता रहा ; इसी मकान में   जोगेन ने दीवारों पर अपनी पहली पेंटिंग बनाई  ,1951 में  जोगेन चौधरी का परिवार  शहीद नगर कॉलोनी ढाकुरिया कोलकाता के दूसरे घर में शिफ्ट हो गया         जोगेन चौधरी  शिक्षा और नौकरी   -- 1962 में  जोगेन चौधरी हैंडलूम बोर्ड कोलकाता में डिजाइनर की नौकरी पा गए  1967 में 5 महीने के लिए लंद