Posts

Showing posts from April 4, 2021

DU LLB प्रवेश परीक्षा

 DU-LLB प्रवेश परीक्षा  परीक्षा का नाम - दिल्ली विश्वविद्यालय एलएलबी प्रवेश परीक्षा  लोकप्रिय नाम - DU LL.B प्रवेश परीक्षा  संचालन प्राधिकरण (authority) : विधि संकाय, दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली  DU LLB प्रवेश परीक्षा पात्रता ---  (i) सामान्य, अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति (एससी / एसटी) उम्मीदवारों के लिए पात्रता मानदंड अध्यादेश में दिया गया है।  एलएलबी में प्रवेश के लिए पात्रता मानदंड     (ii) सामान्य और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के उम्मीदवारों के लिए, दिल्ली विश्वविद्यालय या किसी भी अन्य भारतीय या विदेशी विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट / पोस्ट-ग्रेजुएट डिग्री, दिल्ली विश्वविद्यालय द्वारा कम से कम 50% अंकों या समकक्ष ग्रेड के साथ मान्यता प्राप्त।    हालांकि, प्रवेश परीक्षा में सामान्य उम्मीदवारों के लिए अधिसूचित अंकों से ओबीसी उम्मीदवारों के प्रवेश के लिए कट ऑफ अंक 10% तक कम होगा।  (iii) सामान्य उम्मीदवारों के लिए निर्धारित न्यूनतम पात्रता में 5% अंकों की छूट अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) श्रेणी में दी जाएगी।  (भारत के माननीय उच्चतम न्यायालय के फैसले के अनुपालन में पी.वी. इंडीयरसन बनाम भारत संघ

K. S. kulkarni artist ki jivni

Image
 K. S. kulkarni artist ki jivni जीवनी के. एस. कुलकर्णी के एस कुलकर्णी K. S. kulkarni artist ki jivni K S kulkarni  जन्म--1918 मृत्यु--1994  7 अप्रैल 1918 को बेलगांव कर्नाटक में जन्मे कृष्ण श्यामराव कुलकर्णी की प्रारंभिक शिक्षा पूना में हुई थी । के एस कुलकर्णी की कला शिक्षा के लिए 1935 में जे जे स्कूल ऑफ आर्ट्स मुम्बई से प्रवेश लिया और 1940 में कला का डिप्लोमा प्राप्त किया।  बाद में एक वर्ष का भित्ति चित्रण का  एक वर्षीय स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम का डिप्लोमा प्राप्त किया। 1943 में वो एक टेक्सटाइल फर्म में टेक्सटाइल डिज़ाइनर का काम करने लगे,1945 में उन्होंने नौकरी छोड़ दी और स्वतंत्र होकर  युवक युवतियों को कल की शिक्षा देने का काम शुरू किया। इसके बाद उन्होंने आल इंडिया फाइन आर्ट्स एंड क्राफ्ट में भी अवैतनिक कार्य किया जहां पर देश भर के कलाकार एकत्र होते थे 1945 में उन्होंने AIFA में प्रथम प्रदर्शनी आयोजित की।1950 से 1955 तक दिल्ली उन्होंने दिल्ली के स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर में कार्य किया।     कुलकर्णी  ने अपनी कला की शुरुआत एक म्यूरलिस्ट के रूप में की ,उन्होंने अपना जीवन साइन बोर्ड औ