Posts

Showing posts from October 24, 2021

जगदीश स्वामीनाथन Jagdeesh Swaminathan Artist ki Jivni

Image
जगदीश स्वमीनाथन Jagdeesh Swaminathan Artist ki Jivni जगदीश स्वामीनाथ( Jagdeesh Swaminathan ) भारतीय चित्रकला क्षेत्र के वो सितारे थे जिन्होंने अपनी एक अलग फक्कड़ जिंदगी व्यतीत किया ,उन्होंने अपने बहुआयामी व्यक्तित्व में जासूसी उपन्यास भी लिखे तो सिनेमा के टिकट भी बेचें।उन्होंने कभी भी अपनी सुख सुविधाओं की ओर ध्यान नहीं दिया ।   जगदीश स्वामीनाथन का बचपन -(Childhood of Jagdish Swminathan) जगदीश स्वामीनाथन का जन्म 21 जून 1928 को शिमला के एक मध्यम वर्गीय किसान परिवार में हुआ।इनके पिता एन. वी. जगदीश अय्यर एक परिश्रमी कृषक थे एवं उनकी माता जमींदार घराने की थी  और तमिलनाडु से ताल्लुक रखते थे। जगदीश स्वामीनाथन उनका प्रारंभिक जीवन शिमला में व्यतीत हुआ था ।शिमला में ही प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण की यहां पर इनके बचपन के मित्र निर्मल वर्मा और रामकुमार भी थे। जगदीश स्वामीनाथन बचपन से बहुत जिद्दी स्वभाव के थे,उनकी चित्रकला में रुचि बचपन से थी पर अपनी जिद्द के कारण उन्होंने कला विद्यालय में प्रवेश नहीं लिया। उन्होंने हाईस्कूल पास करने के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय की PMT परीक्षा (प्री मेडिकल टेस्ट) में

Shashwat Nkrani शाश्वत नकरानी की Biography

Image
 23 साल की उम्र में ज्यादातर  नवयुवक ग्रेजुएशन करने के बाद पोस्ट ग्रेजुएशन करने लगते हैं पर कुछ नवजवान अपने दम और जज्बे से कुछ नया करके अपनी पहचान कायम करते हैं उनमें एक नया चमकता सितारा 2021 में दिख रहा है उसका नाम है  शाश्वत नकरानी। भारत पे का यूनिकॉर्न बनने के बाद  शाश्वत नकरानी की संपति 1700 करोङ रुपये हो गई है। शाश्वत नकरानी की  बायोग्राफी और स्टोरी - -  शाश्वत नकरानी का जन्म भावनगर गुजरात में 1998 में हुआ था ।वह बचपन से पढ़ने में होशियार थे  और बचपन से ही कुछ नया  निर्माण  करने में  प्रयत्नशील रहते थे।   उन्होंने  अपने काबिलियत  और मेहनत से 2015 में IIT दिल्ली में  प्रवेश प्राप्त करने में सफ़लता अर्जित की। उन्होंने टेक्सटाइल टेक्नोलॉजी ब्रांच से IIT दिल्ली में पढ़ाई प्रारम्भ की।पर वह पढ़ाई के साथ कुछ नया करना चाहते थे। उन्होंने देखा  और महसूस किया कि हर दुकान में कस्टमर से पेमेंट लेने के लिए अलग अलग कंपनी जैसे PAY TM ,गूगल पे, फ़ोन पे, अमोजोंन पे आदि के QR कोड लगाए जाते है ,जिस कस्टमर के पास जो ऐप है उसी से QR कोड स्कैन करके पेमेंट करता था । यदि दुकान दार के पास सभी कंपनियों के QR कोड