Posts

Showing posts from October 24, 2021

Aneesh kapoor आर्टिस्ट की जीवनी

Image
  अनीश कपूर का जन्म 12 मार्च 1954 को मुम्बई में हुआ था ,उनके पिता एक  इण्डियन पंजाबी हिन्दू थे ,उनकी माता यहूदी परिवार से थे ,अनीश कपूर के नाना पुणे के यहूदी मंदिर जिसे सिनेगॉग कहते है के एक कैंटर थे।  (अनीश कपूर)         इनके पिता भारतीय नौ सेना (NEVY)मैं जल वैज्ञानिक (Hydrographer) थे,अनीश कपूर के एक भाई टोरंटो कनाडा के यार्क विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर हैं।   अनीश कपूर की शिक्षा-- अनीश कपूर की प्रारंभिक शिक्षा दून स्कूल देहरादून में हुई,प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद सन 1971 में अनीश कपूर  इजराइल चले गए ,वहां पर उन्होंने इलेक्ट्रिकल  इंजीनियरिंग के लिए इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन लिया ,परंतु उनकी गणित में अरुचि होने के कारण छै महीने बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ दिया,तब उन्होंने एक आर्टिस्ट बनने का निश्चय किया।वह इंग्लैंड गए यहां पर होर्नसे कॉलेज ऑफ आर्ट में एडमिशन लिया और चेल्सिया स्कूल ऑफ आर्ट एंड डिज़ाइन में कला का अध्ययन किया। अनीश कपूर की  महत्वपूर्ण संरचनाये और स्कल्पचर- - अनीश कपूर ने  1979-1980 में 1000 Names नामक  इंस्टालेशन बनाये आपने ये स्कल्पचर और संरचनाओं  में अमूर्

Shashwat Nkrani शाश्वत नकरानी की Biography

Image
 23 साल की उम्र में ज्यादातर  नवयुवक ग्रेजुएशन करने के बाद पोस्ट ग्रेजुएशन करने लगते हैं पर कुछ नवजवान अपने दम और जज्बे से कुछ नया करके अपनी पहचान कायम करते हैं उनमें एक नया चमकता सितारा 2021 में दिख रहा है उसका नाम है  शाश्वत नकरानी। भारत पे का यूनिकॉर्न बनने के बाद  शाश्वत नकरानी की संपति 1700 करोङ रुपये हो गई है। शाश्वत नकरानी की  बायोग्राफी और स्टोरी - -  शाश्वत नकरानी का जन्म भावनगर गुजरात में 1998 में हुआ था ।वह बचपन से पढ़ने में होशियार थे  और बचपन से ही कुछ नया  निर्माण  करने में  प्रयत्नशील रहते थे।   उन्होंने  अपने काबिलियत  और मेहनत से 2015 में IIT दिल्ली में  प्रवेश प्राप्त करने में सफ़लता अर्जित की। उन्होंने टेक्सटाइल टेक्नोलॉजी ब्रांच से IIT दिल्ली में पढ़ाई प्रारम्भ की।पर वह पढ़ाई के साथ कुछ नया करना चाहते थे। उन्होंने देखा  और महसूस किया कि हर दुकान में कस्टमर से पेमेंट लेने के लिए अलग अलग कंपनी जैसे PAY TM ,गूगल पे, फ़ोन पे, अमोजोंन पे आदि के QR कोड लगाए जाते है ,जिस कस्टमर के पास जो ऐप है उसी से QR कोड स्कैन करके पेमेंट करता था । यदि दुकान दार के पास सभी कंपनियों के QR कोड