Posts

Showing posts from July 16, 2020

जीका वायरस रोग के लक्षण और बचाव

Image
 जीका वायरस रोग के लक्षण और बचाव--     एक साल पूर्व जीका वायरस का प्रकोप केरल और कुछ दक्षिणी भारत के राज्यों तक सुनने को मिल रहा था,आज 2021 में जीका वायरस के मरीज उत्तर भारत तक पैर पसार चुका है ,मध्यप्रदेश,गुजरात,राजस्थान  में कई जिलों में पैर पसार रहा है जीका वायरस  छोटे शहरों कस्बों तक भी फैल रहा है ,इस रोग के लक्षण वाले मरीज़ उत्तर प्रदेश के,इटावा ,कन्नौज,जालौन ,फतेहपुर में मिले हैं। उत्तर भारत और मध्य भारत तक इसके मरीज  बहुतायत में मिले हैं। कैसे फैलता है जीका वायरस-- जीका वायरस का संक्रमण मच्छरों के द्वारा होता है,वही मच्छर जिनसे डेंगू और चिकुनगुनिया होता है, यानी मच्छर काटने के बाद ही जीका वायरस फैलता है। थोड़ा सा अंतर भी है डेंगू वायरस और जीका वायरस में ,जीका वायरस  से यदि एक बार कोई संक्रमित हो जाता है ,और वह अपने साथी से शारीरिक संबंध बनाता है तो उसे भी संक्रमित कर सकता है,साथ मे संक्रमित माता के पेट मे पल रहे गर्भस्थ शिशु भी संक्रमित हो सकता है, साथ मे  जीका वायरस से संक्रमित व्यक्ति यदि कहीं ब्लड डोनेट करता है ,तो उस  ब्लड में भी जीका वायरस होता है। इस प्रकार ये खून जिसके श

माओत्से तुंग की बायोग्राफी

Image
माओत्से तुंग की बायोग्राफी (मओत्से तुंग) माओ ज़ेडॉन्ग (मओत्से तुुंग ) नवम्बर, 1893 - सितंबर 9, 1976), आधुनिक चीन के पिता को न केवल चीनी समाज और संस्कृति पर उनके प्रभाव के लिए याद किया जाता है, बल्कि उनके वैश्विक प्रभाव के लिए, जिसमें संयुक्त राज्य अमेरिका में राजनीतिक क्रांतिकारी भी शामिल हैं,के लिए भी याद किया जाता है। 1960 और 1970 के दशक में पश्चिमी दुनिया में उन्हें व्यापक रूप से सबसे प्रमुख कम्युनिस्ट सिद्धांतकारों में से एक माना जाता है। उन्हें एक महान कवि के रूप में भी जाना जाता था। प्रारंभिक जीवन 26 दिसंबर, 1893 को चीन के हुनान प्रांत के शाओशन में माओ परिवार के एक बेटे का जन्म हुआ। उन्होंने लड़के का नाम माओत्से तुंग रखा। बच्चे ने पांच साल के लिए गांव के स्कूल में कन्फ्यूशियस क्लासिक्स का अध्ययन किया, लेकिन 13 साल की उम्र में खेत पर पूर्णकालिक मदद करने के लिए इस पढ़ाई को छोड़ दिया। विद्रोही और शायद ख़राब स्वभाव के कारण युवा माओ को कई स्कूलों से निष्कासित कर दिया गया था और वह विद्रोही स्वभाव के कारण कई दिनों के लिए घर से भाग गया था। 1907 में,