Posts

Showing posts from July 23, 2019

असित कुमार हलदार आर्टिस्ट की biography

Image
 असित कुमार हाल्दार आर्टिस्ट की बायोग्राफी असित कुमार हाल्दार एक कल्पना शील, भावप्रवण चित्रकार के साथ साथ अच्छे साहित्यकार ,शिल्पकार, कला समालोचक,चिंतक,कवि,विचारक भी थे। असित कुमार हाल्दार का प्रारंभिक जीवन--- असित कुमार हलदार का जन्म सन 1890 पश्चिम बंगाल के जोड़ासांको नामक स्थल में  स्थित टैगोर भवन  के एक प्रतिष्ठित परिवार में हुआ था। इनकी नानी रवींद्र नाथ टैगोर की बहन थीं।   असित कुमार हलदार के बाबा  का नाम राखालदास हाल्दार था  जो उस समय लंदन विश्वविद्यालय में संस्कृत विषय के प्राध्यापक थे, और पिता सुकुमार हाल्दार भी कला में निपुण थे  ,उनकी प्रेरणा से असित कुमार हलदार को भी कला में अभिरुचि जगी। साथ मे वो बचपन से ही ग्रामीणों के बीच रहकर उनकी पटचित्र कला को गौर से देखा और समझा था।  15 वर्ष की आयु में हाल्दार को कलकत्ता के गवर्नमेंट स्कूल ऑफ आर्ट में दाखिला मिल गया , यहां पर इनको गुरु के रूप में  अवनींद्र नाथ टैगोर का सानिध्य मिला। उनसे उन्होंने कला की बारीकियों को सीखा,  यहां पर इन्होंने जादू पाल और बकेश्वर पाल से मूर्तिकला सीखी।    यहां आपको पर असित कुमार हाल्दार को अपने कक्षा में अन्

Barsaat (बरसात )mein rog se bachav-health tips for maansoon season

Image
Barsaat  (बरसात )mein rog se bachav-health tips for maansoon season                   बरसात वो समय है जिसमे वातावरण खुशनुमा हो जाता है,  चारो तरफ  हरियाली ,  फूलों में     उड़तीं तितलियां   हर   व्यक्ति का  मन विभोर कर देतीं है ,   हरियाली छाने से इंसानो को तो हरापन अच्छा लगता ही  है परंतु चौपाये भी प्रसन्न हो जाते है हरे चारे मिलने से, परंतु जब सब प्रसन्न है तो वातावरण में फ़ैले सूक्ष्म जीव जो हमे अपने इन आँखों से नही दीखते तो वो भी प्रसन्न होते हैं और अपनी संख्या को तेज़ी से बढ़ाने लगते हैं , जब इनकी संख्या अचानक एक से लाख गुणी बढ़ेगी तो निश्चित ही ज़्यादा मनुष्यों , जानवरों में प्रवेश करेंगे उनको बीमारी देंगे । इसीलिए बरसात में मन खुश नुमा तो होता है परंतु लोग इसी समय कई बीमारियों ,  जैसे बुख़ार, हैजा , टाइफाइड , मलेरिया, चिकिनगुनिया, डेंगू, जापानी बुखार  से पीड़ित हो जाते हैं  ,बहुत से बन्दे अस्पताल में भर्ती हो जाते है  छोटी सी लापरवाही के कारण।       डेंगू , इंसेफलाइटिस रोगों में तो मरीज की लापरवाही से उसके शीघ्र इंटेंसिव केअर यूनिट (ICU)में भी शिफ़्ट करना पड़ जाता है ,क्योंकि डेंग