Posts

Showing posts from July 23, 2019

विलियम मोरिस डेविस भूगोलविद की जीवनी

Image
 विलियम मोरिस डेविस भूगोलविद की जीवनी: मोरिस डेविस का प्रारंभिक जीवन विलियम मोरिस डेविस का जन्म फिलाडेल्फिया  यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका में हुआ था । डेविस ने हारवर्ड  से1869 में स्नातक की उपाधि ग्रहण की,सन 1870 से 1873 तक वह अर्जेंटीना के कार्डोबा के मौसम विज्ञान वेधशाला में सहायक के रूप में काम किया , हार्वर्ड से वापस लौटने के बाद इन्होंने वह भूगर्भीय व भूआकृति विज्ञान का अध्ययन किया,सन 1876 में उसे सहायक प्रोफेसर का शेलर का सहायक बना और उनके साथ रहकर भूगर्भ विज्ञान और भूआकृति विज्ञान का अध्ययन करने लगा 1878 में अस्सिटेंट प्रोफ़ेसर बने और 1899 में प्रोफ़ेसर नियुक्त हुए  1890  विलियम डेविस ने सार्वजनिक  स्कूलों में भूगोल के मानकों को निर्धारित किया उनके अनुसार प्राथमिक विद्यालयों ,माध्यमिक विद्यालयों में भूगोल को विज्ञान की तरह शिक्षा देना चाहिए ,डेविस ने भूगोल को विश्व विद्यालय स्तर पर पढ़ाये जाने के लिए उपयुक्त पाठ्यक्रम बनाने में सहायता प्रदान की। 1904 में वह अमेरिका के सारे प्रशिक्षित भूगोलवेत्ताओं से मुलाकात की ,और इन शिक्षाविदों का संगठन तैयार किया। 1904 में एसोसिएशन ऑफ अमेरिकन जिओग

Barsaat |बरसात |mein rog se bachav|Health tips for maansoon season

Image
Barsaat  (बरसात )mein rog se bachav|Health tips for maansoon season                   बरसात वो समय है जिसमे वातावरण खुशनुमा हो जाता है,  चारो तरफ  हरियाली ,फूलों में उड़तीं तितलियां हर   व्यक्ति का  मन विभोर कर देतीं है ,हरियाली छाने से इंसानो को तो हरापन अच्छा लगता ही  है परंतु चौपाये भी प्रसन्न हो जाते है हरे चारे मिलने से, परंतु जब सब प्रसन्न है तो वातावरण में फ़ैले सूक्ष्म जीव जो हमे अपने इन आँखों से नही दीखते तो वो भी प्रसन्न होते हैं और अपनी संख्या को तेज़ी से बढ़ाने लगते हैं , जब इनकी संख्या अचानक एक से लाख गुणी बढ़ेगी तो निश्चित ही ज़्यादा मनुष्यों , जानवरों में प्रवेश करेंगे उनको बीमारी देंगे । इसीलिए बरसात में मन खुश नुमा तो होता है परंतु लोग इसी समय कई बीमारियों ,  जैसे बुख़ार,हैजा ,टाइफाइड ,मलेरिया, चिकिनगुनिया, डेंगू, जापानी बुखार  से पीड़ित हो जाते हैं  ,बहुत से बन्दे अस्पताल में भर्ती हो जाते है  छोटी सी लापरवाही के कारण।       डेंगू , इंसेफलाइटिस रोगों में तो मरीज की लापरवाही से उसके शीघ्र इंटेंसिव केअर यूनिट (ICU)में भी शिफ़्ट करना पड़ जाता है ,क्योंकि डेंगू की एक अवस्था