Posts

Showing posts from August 29, 2019

असित कुमार हलदार आर्टिस्ट की biography

Image
 असित कुमार हाल्दार आर्टिस्ट की बायोग्राफी असित कुमार हाल्दार एक कल्पना शील, भावप्रवण चित्रकार के साथ साथ अच्छे साहित्यकार ,शिल्पकार, कला समालोचक,चिंतक,कवि,विचारक भी थे। असित कुमार हाल्दार का प्रारंभिक जीवन--- असित कुमार हलदार का जन्म सन 1890 पश्चिम बंगाल के जोड़ासांको नामक स्थल में  स्थित टैगोर भवन  के एक प्रतिष्ठित परिवार में हुआ था। इनकी नानी रवींद्र नाथ टैगोर की बहन थीं।   असित कुमार हलदार के बाबा  का नाम राखालदास हाल्दार था  जो उस समय लंदन विश्वविद्यालय में संस्कृत विषय के प्राध्यापक थे, और पिता सुकुमार हाल्दार भी कला में निपुण थे  ,उनकी प्रेरणा से असित कुमार हलदार को भी कला में अभिरुचि जगी। साथ मे वो बचपन से ही ग्रामीणों के बीच रहकर उनकी पटचित्र कला को गौर से देखा और समझा था।  15 वर्ष की आयु में हाल्दार को कलकत्ता के गवर्नमेंट स्कूल ऑफ आर्ट में दाखिला मिल गया , यहां पर इनको गुरु के रूप में  अवनींद्र नाथ टैगोर का सानिध्य मिला। उनसे उन्होंने कला की बारीकियों को सीखा,  यहां पर इन्होंने जादू पाल और बकेश्वर पाल से मूर्तिकला सीखी।    यहां आपको पर असित कुमार हाल्दार को अपने कक्षा में अन्

Major dhyanchand-

Image
           मेजर ध्यान चन्द-हॉकी के जादूगर Major dhyanchnd का जन्म 29 अगस्त 1905 को ब्रिटिश भारत में हुआ था  ,इनका पूरा नाम ध्यानचंद सिंह था, उनके भाई का नाम रूप सिंह था  वो भी हॉकी के कुशल खिलाडी थे ,  ध्यानचंद  के बाल्यकाल में खिलाड़ी के कोई लक्षण नहीं थे  उनकी   हाईट  5 फुट 7 इंच ,परंतु युवावस्था में जब वो 17 वर्ष की अवस्था  के थे तब उन्हें सन् 1922 को  सेना  में ब्राम्हण रेजीमेंट में भर्ती  होने का अवसर मिला , कुछ समय बाद सेना में उनका  परिचय  मेजर तिवारी से हुआ जो हाँकी के खिलाड़ी थे ,उनके सम्पर्क में आने के बाद उन्होंने हाँकी खेल की बारीकियाँ सीखी , और ख़ुद को एक बेहतरीन  खिलाड़ी बनाने के लिए जुनूनी ढंग से खेल खेलते थे वो रात को चाँदनी रात में भी हाँकी खेल में अभ्यास करते रहते  थे ,सतत् अभ्यास से  उन्होंने सारी कमजोरियाँ दूर कर ली ,और वो प्रारम्भ में सेना के खेल की प्रतिस्पर्धा में भाग लेते थे 1922 से 1926 तक वो सेना के खेलों में ही हिस्सा लेते थे। उन्हें हॉकी में उम्दा प्रदर्शन से  ध्यानचंद को  लगातार प्रमोशन  मिलता रहा , 1927 में ध्यानचंद को प्रमोट करके लांस नायक बना दिया ग