Posts

Showing posts from July 2, 2019

विलियम मोरिस डेविस भूगोलविद की जीवनी

Image
 विलियम मोरिस डेविस भूगोलविद की जीवनी: मोरिस डेविस का प्रारंभिक जीवन विलियम मोरिस डेविस का जन्म फिलाडेल्फिया  यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका में हुआ था । डेविस ने हारवर्ड  से1869 में स्नातक की उपाधि ग्रहण की,सन 1870 से 1873 तक वह अर्जेंटीना के कार्डोबा के मौसम विज्ञान वेधशाला में सहायक के रूप में काम किया , हार्वर्ड से वापस लौटने के बाद इन्होंने वह भूगर्भीय व भूआकृति विज्ञान का अध्ययन किया,सन 1876 में उसे सहायक प्रोफेसर का शेलर का सहायक बना और उनके साथ रहकर भूगर्भ विज्ञान और भूआकृति विज्ञान का अध्ययन करने लगा 1878 में अस्सिटेंट प्रोफ़ेसर बने और 1899 में प्रोफ़ेसर नियुक्त हुए  1890  विलियम डेविस ने सार्वजनिक  स्कूलों में भूगोल के मानकों को निर्धारित किया उनके अनुसार प्राथमिक विद्यालयों ,माध्यमिक विद्यालयों में भूगोल को विज्ञान की तरह शिक्षा देना चाहिए ,डेविस ने भूगोल को विश्व विद्यालय स्तर पर पढ़ाये जाने के लिए उपयुक्त पाठ्यक्रम बनाने में सहायता प्रदान की। 1904 में वह अमेरिका के सारे प्रशिक्षित भूगोलवेत्ताओं से मुलाकात की ,और इन शिक्षाविदों का संगठन तैयार किया। 1904 में एसोसिएशन ऑफ अमेरिकन जिओग

Pipal ke pend se 24 hour oxygen kaise?

Image
       Pipal ke pend se 24 hour oxygen kaise?  पीपल के पेड़ से 24 ऑवर ऑक्सीजन  कैसे निकलती है?                              पीपल रात को भी ऑक्सीजन कैसे छोड़ता है!!    पीपल  24 घण्टे ऑक्सीजन छोड़ता है    !!    पीपल का पेड़ कैसे 24 ऑवर ऑक्सीजन छोड़ता है जबकि अन्य पेंड तो सिर्फ दिन में ही ऑक्सीजन छोड़ते हैं ,रात को कॉर्बन डाई ऑक्साइड को छोड़ते हैं ,ये बात आप सब जानते है  , तो इस गूढ़ प्रश्न को समझने के लिए हमे पौधों के भोजन बनाने वाली प्रक्रिया प्रकाश संश्लेषण को समझना होगा जिस प्रक्रिया से पौधे सूर्य की उपस्थित में भोजन का निर्माण करते हैं। प्रकाश संश्लेषण भी तीन प्रकार का होता है ,इसमे पत्तियों के निचली सतह पर छोटे छोटे छिद्र होते है जिन्हें स्टोमेटा कहते हैं ।              :: प्रकाश संश्लेषण के प्रकार ::                     प्रकाश संश्लेषण की क्रिया तीन तरह की होती है पहली C3 दूसरी C4 तीसरी CAM प्रकार की ।  "CAM"  का वैज्ञानिक भाषा मे "क्रासुलेसियन पाथवे" कहा जाता है।              पहले प्रकार में सामान्य पौधे आते है जो इस विधि से प्रकाश संश्लेषण करते है    ।