Posts

Showing posts from April 11, 2020

जीका वायरस रोग के लक्षण और बचाव

Image
 जीका वायरस रोग के लक्षण और बचाव--     एक साल पूर्व जीका वायरस का प्रकोप केरल और कुछ दक्षिणी भारत के राज्यों तक सुनने को मिल रहा था,आज 2021 में जीका वायरस के मरीज उत्तर भारत तक पैर पसार चुका है ,मध्यप्रदेश,गुजरात,राजस्थान  में कई जिलों में पैर पसार रहा है जीका वायरस  छोटे शहरों कस्बों तक भी फैल रहा है ,इस रोग के लक्षण वाले मरीज़ उत्तर प्रदेश के,इटावा ,कन्नौज,जालौन ,फतेहपुर में मिले हैं। उत्तर भारत और मध्य भारत तक इसके मरीज  बहुतायत में मिले हैं। कैसे फैलता है जीका वायरस-- जीका वायरस का संक्रमण मच्छरों के द्वारा होता है,वही मच्छर जिनसे डेंगू और चिकुनगुनिया होता है, यानी मच्छर काटने के बाद ही जीका वायरस फैलता है। थोड़ा सा अंतर भी है डेंगू वायरस और जीका वायरस में ,जीका वायरस  से यदि एक बार कोई संक्रमित हो जाता है ,और वह अपने साथी से शारीरिक संबंध बनाता है तो उसे भी संक्रमित कर सकता है,साथ मे संक्रमित माता के पेट मे पल रहे गर्भस्थ शिशु भी संक्रमित हो सकता है, साथ मे  जीका वायरस से संक्रमित व्यक्ति यदि कहीं ब्लड डोनेट करता है ,तो उस  ब्लड में भी जीका वायरस होता है। इस प्रकार ये खून जिसके श

NIA का full form क्या है?

NIA का full form क्या है Naitional Investigation Agency  भारत में आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए  भारत सरकार द्वारा एक संघीय संस्थान की स्थापना की गई ये एजेंसी राज्यों के बिना अनुमति देश भर में हर राज्य में आतंक संबंधी अपराधों को निपटाने के लिए सशक्त है,इस संस्थान की स्थापना 31 दिसंबर 2008 को संसद द्वारा किये गए कानून "राष्ट्रीय जाँच एजेंसीय 2008" के लागू होने के कारण अस्तित्व में आई।      सन् 2008 में हुई मुम्बई में हुए आतंकवादी हमले के बाद एक केंद्रीय जांच एजेंसी की आवश्यकता महसूस की गई ,और एन आई ए का गठन हुआ NIA के संस्थापक महानिदेशक श्री राधा विनोद राजू थे जो 31 जनवरी 2010 तक सेवा में रहे उनको मार्च 2013 तक मानवाधिकार आयोग के सदस्य के रूप में नियुक्त किया  गया , इस अधिनियम के अंतर्गत नियमों में आतंकवाद से जुड़े अपराधों के ख़िलाफ़ जाँच करने और मुक़दमा चलाने का अधिकार दिया गया,एक राज्य सरकार किसी भी केस की जाँच को NIA के सुपुर्द करने के लिए केंद्र सरकार से अनुरोध कर सकती है, बशर्ते वो अपराध  NIA अधिनियम में वर्णित अपराधों में से एक हो,।   NIA के अधिकारी भारतीय पुलिस से

I B का full form क्या होता है

I B का full form है-- Intelligence BUREAU इंटेलिजेंस ब्यूरो की स्थापना और गठन-- आई बी  देश की अन्य ख़ुफ़िया एजेंसीय और पुलिस को  संदिग्ध गतिविधियों की सूचना देती है जिससे समय से पूर्व प्रशासन सामान्य जन को अप्रिय घटनाओं से बचाने के लिए आवश्यक कार्यवाही कर सके । भारत की ख़ुफ़िया एजेंसी की गिनती दुनिया के पुरानी ख़ुफ़िया एजेंसीय में होती है , शुरुआत में इस ख़ुफ़िया एजेंसीय को देश की आंतरिक  और बाह्य ख़ुफ़िया तंत्र के रूप में कार्य करना होता था,IB का गठन 1887 में ब्रिटिश सरकार ने अफगानिस्तान पर तैनात रुसी सैनिकों पर नज़र रखने के लिए किया था,1947 में इसे भारत सरकार ने फिर से संगठित किया।         ये एजेंसीय 1947 से गृह मंत्रालय के अधीन केंद्रीय ख़ुफ़िया ब्यूरो के तौर पर नई भूमिका मिली है 1868  में इसे दो भागों में बाँट दिया गया और आंतरिक सूचना एकत्रण की जम्मेदारी आई बी के पास रह गई। ,इस ख़ुफ़िया ब्यूरो में ज्यादातर पुलिस सेवा (IPS) एवं सेना के कर्मचारियों को  शमिल किया जाता है,ख़ुफ़िया ब्यूरो को डायरेक्टर (DIB) हमेशा भारतीय पुलिस सेवा का एक अधिकारी होता है, इस सेवा के कार्यो को अति गोपनीय रखा जाता