अंध भक्ति किसे कहते हैं जानिए कौन होते हैं अंधभक्त

Image
  अंधभक्त किसे कहते हैं? अंध भक्त का शाब्दिक अर्थ- अंधभक्त का तात्पर्य हिन्दी शब्दावली के अनुसार वो भक्त जो आंख बंद कर दुसरों का अनुसरण करें। अनुयायी जो अपने नेता पर अधिक भरोसा करे । और  अपने विवेक का इस्तेमाल बिल्कुल न करे।     अन्ध शब्द के अन्य मिश्रित शब्द अंध प्रेम-Blind love अंध भक्त-Blind supporter अंध विश्वास-  Superstition ,Blind Faith अंध राष्ट्रवाद -Blind Patriotism अंध-Blind भक्त- Worshiper भक्ति शब्द  का प्रयोग ईश्वर भक्ति ,मातृ भक्ति,पितृ भक्ति ,राष्ट्र भक्ति ,  आदि भक्त वो हैं जो   जो भक्ति करते है जो  किसी में श्रद्धा और आस्था और  विश्वास रखतें हैं।  जैसे -शिव भक्त , कृष्ण भक्त ,देवी भक्त ,राष्ट्र भक्त आदि हैं। जो भक्ति करते है अंधभक्त का तात्पर्य किसी भी व्यक्ति पर ऑंखमूँदकर विश्वास करने वाला अनुयायी। जिसमें व्यक्ति अपने विवर्क और तर्क का प्रयोग न करे। निरीश्वरवादी बौद्ध अन्य धर्म अनुयाइयों के धर्म ग्रंथ में अकल्पनीय बातों का खंडन करते है ,वो हिन्दू ,मुस्लिम ,ईसाइयों के धर्म ग्रथों में दिए गए कई कथानकों का खंडन करते है और कपोल कल्पित कहते हैं  और इन धर्मों में आस्था रख

हरियाणा के प्रमुख लॉ कॉलेज

 हरियाणा के प्रमुख लॉ कॉलेज--

1-लाला अमी चंद मोंगा मेमोरियल कॉलेज ऑफ लॉ, अंबाला (कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र से संबद्ध)


2- जिंदल ग्लोबल लॉ स्कूल, जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी, सोनीपत, हरियाणा


 3-स्कूल ऑफ लॉ, नॉर्थपैक यूनिवर्सिटी, गुरुग्राम, हरियाणा


4- कानून विभाग, महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय, रोहतक


 5-वैश्य कॉलेज ऑफ लॉ, रोहतक


 6-श्रीमती  शांति देवी लॉ कॉलेज, सहारनवास, रेवाड़ी संबद्ध एमडीयू, रोहतक से


 7-कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र का विधि संस्थान


 8-विधि विभाग, चौधरी देवी लाल विश्वविद्यालय, [सिरसा]


9-चज्जू राम लॉ कॉलेज, हिसार।  कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र से संबद्ध


 10-गीता इंस्टीट्यूट ऑफ लॉ, पानीपत (कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र से संबद्ध)

 11-एसबीएस कॉलेज ऑफ लॉ, गोहाना रोड, रोहतक से एमडीयू, रोहतक से संबद्ध।

Comments

Popular posts from this blog

नव पाषाण काल का इतिहास Neolithic age-nav pashan kaal

Tamra pashan kaal ताम्र पाषाण युग The Chalcolithic Age

Gupt kaal ki samajik arthik vyavastha,, गुप्त काल की सामाजिक आर्थिक व्यवस्था