Aneesh kapoor आर्टिस्ट की जीवनी

Image
  अनीश कपूर का जन्म 12 मार्च 1954 को मुम्बई में हुआ था ,उनके पिता एक  इण्डियन पंजाबी हिन्दू थे ,उनकी माता यहूदी परिवार से थे ,अनीश कपूर के नाना पुणे के यहूदी मंदिर जिसे सिनेगॉग कहते है के एक कैंटर थे।  (अनीश कपूर)         इनके पिता भारतीय नौ सेना (NEVY)मैं जल वैज्ञानिक (Hydrographer) थे,अनीश कपूर के एक भाई टोरंटो कनाडा के यार्क विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर हैं।   अनीश कपूर की शिक्षा-- अनीश कपूर की प्रारंभिक शिक्षा दून स्कूल देहरादून में हुई,प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद सन 1971 में अनीश कपूर  इजराइल चले गए ,वहां पर उन्होंने इलेक्ट्रिकल  इंजीनियरिंग के लिए इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन लिया ,परंतु उनकी गणित में अरुचि होने के कारण छै महीने बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ दिया,तब उन्होंने एक आर्टिस्ट बनने का निश्चय किया।वह इंग्लैंड गए यहां पर होर्नसे कॉलेज ऑफ आर्ट में एडमिशन लिया और चेल्सिया स्कूल ऑफ आर्ट एंड डिज़ाइन में कला का अध्ययन किया। अनीश कपूर की  महत्वपूर्ण संरचनाये और स्कल्पचर- - अनीश कपूर ने  1979-1980 में 1000 Names नामक  इंस्टालेशन बनाये आपने ये स्कल्पचर और संरचनाओं  में अमूर्

विनोद बिहारी मुखर्जी एक भित्ति चित्रकार

 विनोद बिहारी मुखर्जी एक भित्ति चित्रकार की जीवनी:

  विनोद  बिहारी मुखर्जी (7 फरवरी 1904 -11 नवंबर 1980) पश्चिम बंगाल राज्य के एक भारतीय कलाकार थे।  मुखर्जी भारतीय आधुनिक कला के अग्रदूतों में से एक थे और प्रासंगिक आधुनिकतावाद के एक प्रमुख व्यक्ति थे।  

   वह आधुनिक भारत के शुरुआती कलाकारों में से एक थे जिन्होंने कलात्मक अभिव्यक्ति की एक विधा के रूप में भित्ति चित्रों को अपनाया।  

    उनके सभी भित्ति चित्र वास्तुकला की अग्रणी बारीकियों के माध्यम से पर्यावरण की सूक्ष्म समझ को दर्शाते हैं।

विनोद बिहारी मुखर्जी एक भित्ति चित्रकार
:विनोद बिहारी मुखर्जी:

 विनोद बिहारी मुखर्जी भारत के आधुनिकअब्राहम लिंकन की जीवनी हिंदी में अग्रदूत कलाकारों में एक थे,वह आधुनिक भारत के प्रारंभिक कलाकारों में एक थे ,उन्होंने अपनी कलात्मक अभिव्यक्ति के रूप में भित्ति चित्रण को अपनाया।

     जन्म--

विनोद बिहारी मुखर्जी का जन्म पश्चिम बंगाल में 7 फरवरी 1904 बहला नामक स्थान पर हुआ था,उनका पैतृक गांव हुगली जिले के गरालगच्छ गांव में हुआ था।

      मुखर्जी का जन्म आंखों की गंभीर समस्या के साथ हुआ था।  प्रारम्भ में उनको एक आँख में सिर्फ कुछ दूरी तक दिखता था और दूसरी आँख से जरा भी नहीं दिखता था।

      परंतु जब 1956 में एक आंख मोतियाबिंद ऑपरेशन के बाद उनको पूरी तरह से  दिखना बन्द हो गया ,अपनी दृष्टि खो देने के बाद भी उन्होंने  पेंटिंग और भित्ति चित्र बनाना जारी रखा। 

  1919 में उन्होंने विश्व के कला संकाय, कला भवन में प्रवेश लिया। वह भारतीय कलाकार नंदलाल बोस के छात्र थे और मूर्तिकार रामकिंकर बैज के मित्र और करीबी सहयोगी थे।  

    उन्होंने वर्षों से कई प्रतिभाशाली छात्रों को प्रेरित किया, उनमें से चित्रकार जहर दासगुप्ता, रामानंद बंदोपाध्याय, के.जी.  सुब्रमण्यन ,बेहर राममनोहर सिन्हा ,मूर्तिकार और प्रिंटमेकर सोमनाथ होरे, डिजाइनर ऋतेन मजूमदार और फिल्म निर्माता सत्यजीत रे ।

    1979 में, उन्होंने कला भवन छोड़ दिया और काठमांडू में नेपाल सरकार संग्रहालय में क्यूरेटर के रूप में शामिल हो गए।

     1951-52 तक, उन्होंने राजस्थान के बनस्थली विद्यापीठ में पढ़ाया। 1952 में, उन्होंने अपनी पत्नी लीला के साथ मसूरी में एक कला प्रशिक्षण स्कूल शुरू किया।  

   1958 में, वे कला भवन लौट आए, और बाद में इसके प्राचार्य बने। 1979 में, उनके बंगाली लेखन, चित्रकार का एक संग्रह प्रकाशित हुआ था।

भित्ति चित्र--

   उनका प्रमुख काम, शांतिनिकेतन हिंदी भवन ,चीनी भवन, कला भवन पर बनाये गए 1947 का स्मारकीय भित्ति चित्र है, 

     जो मध्ययुगीन भारतीय संतों और संत कवियों के जीवन पर आधारित है और बिना कार्टून के चित्रित किया गया है। इसके अलावा इन भित्ति चित्रों में ग्रामीण जीवन की सुरम्य झांकी भी मिलती है।

कला शैली --

      उनकी कला शैली पश्चिमी आधुनिक कला और प्राच्य परंपराओं (भारतीय कला और सुदूर-पूर्वी कला दोनों का मिश्रण ) की आध्यात्मिकता से अवशोषित मुहावरों का एक जटिल मिश्रण थी। 

   उनके कुछ कार्यों में सुदूर-पूर्वी परंपराओं, अर्थात् सुलेख और चीन और जापान की पारंपरिक वाश तकनीकों का एक उल्लेखनीय प्रभाव दिखाई देता है।  

     उन्होंने जापान के यात्रा करने वाले कलाकारों से सुलेख का पाठ लिया। 1937-48 के दौरान उन्होंने जापान में अराई कम्पो जैसे कलाकारों के साथ कुछ महीने बिताए। जापानी चित्रकार सोसतसू से संपर्क में रहे।

 इसी तरह उन्होंने मुगल और राजपूत काल के भित्तिचित्रों में भारतीय लघु चित्रों से भी सीखा। 

 मिस्र एवं नीग्रो कलाकृतियों ने इनको आकर्षित किया।

कालीघाट की पट शैली तथा ग्राम्य खेल खिलौनों ने भी इन्हें अत्यधिक प्रभावित किया।

    पश्चिमी आधुनिक कला के मुहावरे भी उनकी शैली पर भारी पड़ते हैं, क्योंकि उन्हें अक्सर अंतरिक्ष की समस्याओं को हल करने के लिए क्यूबिस्ट तकनीकों (जैसे बहु-दृष्टिकोण और विमानों के पहलू) को मिश्रित करने के लिए देखा जाता है।

       उन्होंने विश्वभारती परिसर के अंदर भव्य भित्ति चित्र बनाए। 1948 में वे नेपाल में राष्ट्रीय संग्रहालय काठमांडू के निदेशक बने। बाद के वर्षों में वे दून घाटी गए, जहाँ उन्होंने एक कला विद्यालय शुरू किया, लेकिन वित्तीय कमी के कारण उन्हें बंद करना पड़ा।

      1972 में शांतिनिकेतन में मुखर्जी के पूर्व छात्र, फिल्म निर्माता सत्यजीत रे ने उन पर "द इनर आई" नामक एक वृत्तचित्र फिल्म बनाई।

    यह फिल्म मुखर्जी के रचनात्मक व्यक्तित्व और एक दृश्य कलाकार होने के नाते अपने अंधेपन से कैसे  संघर्ष करता है। 

चित्रण विषय:

आपने जल रंग ,तैल रंग और टेम्परा पद्धति से कार्य किया ,इसके अलावा उन्होंने काष्ठ एवं एचिंग में भी काम किया। 

वो लगातार आधुनिक कला में हो रहे परिवर्तनों से प्रभावित रहे।

जया अप्पास्वामी ने उन्हें "भारतीय कला से आधुनिक कला का सेतुबंध " माना है।

उनके द्वारा चित्रित टी लवर चित्र में एक अलग तरह की मोटी ठिगनी पुरुषाकृतियाँ,बृक्षों,पत्तियों की लाल नीली उभरी हुई पत्तियां,उन्होंने रोजमर्रा की जिंदगी के प्रसंगों का चित्रण  बखूबी किया है।जिसमें गली में चलते फिरते,सामान्य व्यक्ति ,बालक ,बृद्ध ,बाग में चहल कदमी करते व्यक्ति

 पुरस्कार :

 1974 में, उन्हें पद्म विभूषण पुरस्कार मिला। उन्हें 1977 में विश्व भारती विश्वविद्यालय द्वारा देसीकोट्टमा से सम्मानित किया गया था। उन्हें 1980 में रवींद्र पुरस्कार मिला था।

मृत्यु:

1980 में विनोद बिहारी मुखर्जी का निधन हो गया।

पढ़ें-शंखो चौधरी मूर्तिकार की जीवनी

पढ़ें--अब्राहम लिंकन जीवनी हिंदी में


कला साल्व्ड पेपर यूथ कॉम्पटीशन टाइम्स-

https://amzn.to/2XuBFtX

Comments

Post a Comment

Please do not enter any spam link in this comment box

Popular posts from this blog

नव पाषाण काल का इतिहास Neolithic age-nav pashan kaal

Gupt kaal ki samajik arthik vyavastha,, गुप्त काल की सामाजिक आर्थिक व्यवस्था

Tamra pashan kaal| ताम्र पाषाण युग The Chalcolithic Age