Satish Gujral Artist की जीवनी हिंदी में

Image
    सतीश गुजराल आर्टिस्ट की जीवनी--  Biography of  Satish Gujral Artist --   सतीश गुजराल बहुमुखी प्रतिभा के धनी एक प्रसिद्ध भारतीय चित्रकार,मूर्तिकार वास्तुकार,लेखक हैं जिनका जन्म 25 दिसंबर 1925 को झेलम पंजाब (जो अब पाकिस्तान में है) में हुआ था।इनको देश के दूसरे सर्वोच्च सिविलियन अवार्ड पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।इनके बड़े भाई इंद्रकुमार गुजराल 1997 से 1998 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे है।जो भारत के 13 वें प्रधानमंत्री थे। सतीश गुजराल का बचपन--    जब सतीश गुजराल मात्र 8 साल के थे तब उनके साथ एक दुर्घटना हो गई उनका पैर  एक नदी के पुल में फिसल गया वह जल धारा में पड़े हुए पत्थरो से गंभीर चोट लगी पर  उन्हें बचा लिए गया,इस दुर्घटना के  कारण उनकी टांग टूट गई तथा सिर में गंभीर चोट आई,सिर में गंभीर चोट के कारण उनको एक  सिमुलस नामक बीमारी ने घेर लिया जिससे  उनकी श्रवण शक्ति चली गई। उनकी श्रवण शक्ति खोने,पैर में चोट लगने के कारण उनको लोग लंगड़ा,बहरा गूंगा समझने लगे।वह पांच साल बिस्तर में ही लेटे रहे,यह समय उनके लिए बहुत ही संघर्ष पूर्ण था।इसलिए वह अकेले में खाली समय बैठकर रेखाचित्र बनाने लगे। 

जोगीमारा की गुफा और चित्र

 जोगीमारा  की गुफा:-

जोगीमारा  की गुफा और चित्र
जोगीमारा की गुफाएं छत्तीसगढ़ राज्य के वर्तमान अम्बिकापुर जिले (पुराना नाम सरगुजा जिला) में स्थित है, गुुफ़ा नर्मदा के उद्गम स्थल में "अमरनाथ" नामक जगह पर है और अमरनाथ नामक यह जगह रामगढ़ नामक पहाड़ी पर स्थित है साथ में अमरनाथ नामक यह जगह एक तीर्थ स्थल है। यहां पर पहुंचने के लिए हाँथी की सवारी करनी पड़ती है क्योंकि उबड़ खाबड़ जगह है।
जोगीमारा गुफ़ा के पास एक अन्य गुफा भी है ये सीता बोगड़ा या फिर सीतालँगड़ा गुफ़ा के नाम से जानी जाती है। यह गुफा प्राचीन काल मे एक प्रेक्षागृह या नाट्यशाला थी,जिसमें     सुतनिका नामक गणिका या देवदासी रहती थी।

    बाद में इस गुफा से प्राप्त विषयों का अध्ययन  और यहां से प्राप्त लेख के अध्ययन के  बाद ये पता चलता है कि ये वरुण देवता का मंदिर था और इस मंदिर में देवता के पूजन पाठ सेवा के लिए सुतनिका नामक देवदासी रहती थी। इन गुफा चित्रों में जैन धर्म का प्रभाव दिखता है।

उन चित्रों में कुछ लेख तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व के हैं और कुछ बाद के लेख हैं।

  इन चित्रों का समय 300 ईसा पूर्व,इन चित्रों के कुछ विषय सांची और भरहुत की कला से साम्यता प्रकट करतें हैं,यानि लगभग मौर्यकालीन हैं।

 1914 में यहां पर असितकुमार हलदार तथा समरेन्द्रनाथ गुप्ता ने जोगीमारा गुफाओं का अध्ययन तथा इन चित्रों की प्रतिलिपियाँ तैयार की।

इस गुफ़ा के भित्ति चित्र भी एतिहासिक काल के प्राचीनतम उदाहरण हैं।

यह गुफा बहुत ही सकरी है,इसकी लंबाई दस फुट तथा चौडाई और ऊंचाई छः छः फिट है,यानी आप ये समझो कि छत को एक आदमी खड़ा होकर आसानी से छू सकता है और भित्ति चित्र छत पर बने हैं।

   छत नजदीक होने के कारण बार बार लोंगों के छूने से कई भित्ति चित्र नष्ट हो गए हैं। 

    यहां पर पशु पक्षी ,स्त्री पुरुष ,मकान ,तालाब ,पुष्प आदि को सफ़ेद, लाल,काले रंग से बनाया गया है। चित्रों के बॉर्डर को काले रंग से तथा पूरे चित्रण कक्ष में पीले रंग का बॉर्डर  दिया गया है यानि प्राथमिक रंगों की बात करें लाल,नीला और पीला होते है तो जोगीमारा गुफ़ा में   पीला  रंग और लाल  रंग का प्रयोग तो हुआ है पर तीसरे प्राथमिक रंग नीला का जोगीमारा की गुफा में प्रयोग बिल्कुल नहीं हुआ है।

    इन चित्रों से जानकारी मिलती है कि ईसा पूर्व 300 ईसवी में सभ्यता कितनी विकसित थी।एक प्रकार से ये चित्र उत्तरवैदिक युग के समय के भी मान सकते हैं । कुछ विद्वानों का तो यह मानना है कि अजंता गुफाओं में  भित्तिचित्रण के लिए यही से प्रेरणा मिली होगी

   आप ये कह सकते हो को भित्ति चित्रण के निर्माण में जो तकनीक ईजाद हुई उसका सर्वप्रथम नमूना जोगीमारा की गुफाओं से ही मिलता है।

जोगीमारा गुफा चित्रण में देवदासी सुतनुका और देवदत्त के प्रेम कथा को भी चित्रों के रूप में दर्शाया गया है।

जोगीमारा गुफा चित्रों की विशेषताएं---

जोगीमारा के गुफ़ा की छत में आठ चित्र  मिले हैं।

1-पहले चित्र में एक लहरदार जल का अंकन है उसके बीच हाँथी तथा एक बड़ी सील मछली बनाई गई है।

2-दूसरे चित्र में एक बृक्ष के नीचे कुछ व्यक्ति आराम कर रहे हैं।

3-तीसरे दृश्य में  एक बाग का दृश्य अंकित किया गया है,इन बगीचे में लाल रंग के कुमुदनी के पुष्प बनाये गए हैं, इन पुष्प के ऊपर युगल नृत्य कर रहे हैं।

4- चौथी आकृति की बात करें तो बौने आकार की मनुष्य की आकृतियां बनी हैं,एक  मानव आकृति में  मानव सिर में चोंच लगी है।

5-पांचवें चित्र में एक स्त्री लेटी हुई है और उसके चारों ओर गायन वादन में रत कुछ स्त्री आकृतियां पालथी मारे बैठी बनाई गईं हैं।

6-छठे चित्र में प्राचीन रथ जैसी आकृतियों का अंकन दिखाई देता है।

7-इन रथों में ग्रीक रथों के समान भवन बनाये गए हैं,पर अधिकांश भाग नष्ट हो चुका है।


पढ़ें-आदमगढ़ (होशंगाबाद) की पाषाण चित्रकला

पढ़ें-पुनुरुत्थान(renaisance)रेनेसॉ चित्रकार

Comments

Popular posts from this blog

नव पाषाण काल का इतिहास Neolithic age-nav pashan kaal

Gupt kaal ki samajik arthik vyavastha,, गुप्त काल की सामाजिक आर्थिक व्यवस्था

Tamra pashan kaal| ताम्र पाषाण युग The Chalcolithic Age