विलियम मोरिस डेविस भूगोलविद की जीवनी

Image
 विलियम मोरिस डेविस भूगोलविद की जीवनी: मोरिस डेविस का प्रारंभिक जीवन विलियम मोरिस डेविस का जन्म फिलाडेल्फिया  यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका में हुआ था । डेविस ने हारवर्ड  से1869 में स्नातक की उपाधि ग्रहण की,सन 1870 से 1873 तक वह अर्जेंटीना के कार्डोबा के मौसम विज्ञान वेधशाला में सहायक के रूप में काम किया , हार्वर्ड से वापस लौटने के बाद इन्होंने वह भूगर्भीय व भूआकृति विज्ञान का अध्ययन किया,सन 1876 में उसे सहायक प्रोफेसर का शेलर का सहायक बना और उनके साथ रहकर भूगर्भ विज्ञान और भूआकृति विज्ञान का अध्ययन करने लगा 1878 में अस्सिटेंट प्रोफ़ेसर बने और 1899 में प्रोफ़ेसर नियुक्त हुए  1890  विलियम डेविस ने सार्वजनिक  स्कूलों में भूगोल के मानकों को निर्धारित किया उनके अनुसार प्राथमिक विद्यालयों ,माध्यमिक विद्यालयों में भूगोल को विज्ञान की तरह शिक्षा देना चाहिए ,डेविस ने भूगोल को विश्व विद्यालय स्तर पर पढ़ाये जाने के लिए उपयुक्त पाठ्यक्रम बनाने में सहायता प्रदान की। 1904 में वह अमेरिका के सारे प्रशिक्षित भूगोलवेत्ताओं से मुलाकात की ,और इन शिक्षाविदों का संगठन तैयार किया। 1904 में एसोसिएशन ऑफ अमेरिकन जिओग

राम वी. सुतार मूर्तिकार की जीवनी

 राम वी. सुतार मूर्तिकार की जीवनी----

राम वी. सुतार का प्रारंभिक जीवन---राम वी सुतार का जन्म 19 फरवरी 1925 को जिला धूलिया  ग्राम गुंदूर महाराष्ट्र में हुआ था राम जी सुतार भारत के सुप्रसिद्ध मूर्तिकार है इनका पूरा नाम राम वन जी सुतार है ,इनके पिता गाँव मे ग़रीब परिवार से थे ,इनका विवाह 1957 में प्रमिला से हुआ ,इनके पुत्र का नाम अनिल रामसुतार है जो पेशे से वास्तुकार हैं और नोयडा में रहते हैं।

राम वी. सुतार मूर्तिकार की जीवनी

 शिक्षा-- इनकी शिक्षा इनके गुरु रामकृष्ण जोशी से प्रेरणा लेकर जे जे स्कूल ऑफ आर्ट में हुआ,1953 में इनको इसी कॉलेज से मोडलिंग विधा में गोल्ड मेडल मिला।

कार्य-

1958 में आप सूचना प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार के दृश्य श्रव्य विभाग में तकनीकी सहायक भी रहे 1959 में आपने स्वेच्छा से सरकारी नौकरी त्याग दी और पेशेवर मूर्तिकार बन गए

 मोडलर के रूप में औरंगाबाद  आर्कियोलॉजी मे  रहते हुए 1954 से 1958 तक आपने अजंता और एलोरा की प्राचीन 

मूर्तियों की पुनर्स्थापन का काम किया।

 आप द्वारा निर्मित कुछ मूर्तियां इस प्रकार है --

आपने 150 से अधिक देशों में गांधी जी की मूर्तियां को बनाया --आपने 45 फुट ऊंची चंबल नदी मूर्ति गंगा सागर बांध मध्य प्रदेश  में बनाया 

आपने 21 फुट ऊंची महाराजा रणजीत सिंह की मूर्ति का निर्माण किया।

 आपने 18 फुट ऊंची सरदार वल्लभभाई पटेल की मूर्ति का निर्माण किया ।

राम वी. सुतार मूर्तिकार की जीवनी
गुजरात में स्टेचू ऑफ यूनिटी

आपने 17 फुट ऊंची मोहनदास करमचंद की मूर्ति का निर्माण किया ।

आपने गुजरात में स्टेचू ऑफ यूनिटी का निर्माण किया

 भारतीय संसद में स्थित ध्यान मग्न गांधी की सीमा श्री राम सुतार ने ही बनाई।

 मारीशस में मूंगा पत्थर पर नक्काशी करके लघु चित्र राम .वी. सुतार ने ही  बनाईं ।

 इस प्रकार इन्होंने कई महापुरुषों की मूर्तियां बनाई है, 

 पुरुस्कार--

राम सुतार को 1999 में अटल बिहारी सरकार ने पद्मभूषण पुरस्कार से नवाज़ा गया।  इनको टैगोर कल्चरल अवार्ड 2018 मिला।

पढ़ें-देवी प्रसाद राय चौधरी मूर्तिकार की जीवनी

पढ़ें--शंखो चौधरी आर्टिस्ट की जीवनी


Comments

Popular posts from this blog

Gupt kaal ki samajik arthik vyavastha,, गुप्त काल की सामाजिक आर्थिक व्यवस्था

नव पाषाण काल का इतिहास Neolithic age-nav pashan kaal

Tamra pashan kaal ताम्र पाषाण युग The Chalcolithic Age