Aneesh kapoor आर्टिस्ट की जीवनी

Image
  अनीश कपूर का जन्म 12 मार्च 1954 को मुम्बई में हुआ था ,उनके पिता एक  इण्डियन पंजाबी हिन्दू थे ,उनकी माता यहूदी परिवार से थे ,अनीश कपूर के नाना पुणे के यहूदी मंदिर जिसे सिनेगॉग कहते है के एक कैंटर थे।  (अनीश कपूर)         इनके पिता भारतीय नौ सेना (NEVY)मैं जल वैज्ञानिक (Hydrographer) थे,अनीश कपूर के एक भाई टोरंटो कनाडा के यार्क विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर हैं।   अनीश कपूर की शिक्षा-- अनीश कपूर की प्रारंभिक शिक्षा दून स्कूल देहरादून में हुई,प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद सन 1971 में अनीश कपूर  इजराइल चले गए ,वहां पर उन्होंने इलेक्ट्रिकल  इंजीनियरिंग के लिए इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन लिया ,परंतु उनकी गणित में अरुचि होने के कारण छै महीने बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ दिया,तब उन्होंने एक आर्टिस्ट बनने का निश्चय किया।वह इंग्लैंड गए यहां पर होर्नसे कॉलेज ऑफ आर्ट में एडमिशन लिया और चेल्सिया स्कूल ऑफ आर्ट एंड डिज़ाइन में कला का अध्ययन किया। अनीश कपूर की  महत्वपूर्ण संरचनाये और स्कल्पचर- - अनीश कपूर ने  1979-1980 में 1000 Names नामक  इंस्टालेशन बनाये आपने ये स्कल्पचर और संरचनाओं  में अमूर्

OMR का full form क्या होता है

OMR का full form क्या होता है

OMR का क्या मतलब होता है

OMR का full form क्या होता है

OMR का full फॉर्म है ---optical mark rcognition

ओ.एम.आर. का full form है-ऑप्टिकल मार्क रकॉग्निशन

0MR को ऑप्टिकल मार्क रीडर ,Optical Mark Reader भी कहते हैं.

OMR का full form क्या होता है

OMR  तकनीक का उपयोग तब होता है जब हम  विभिन्न सूचनाओं को एकत्र करने में विकल्पों के प्रयोग करते है। इसमें कागज में विकल्प के सामने के खाने में निशान न लगाकर सही विकल्प के समाने के गोले को काला करना पड़ता है।

 किसी एक विकल्प के सही होने पर उस खाली गोले (circle)को ब्लैक रंग से ठीक प्रकार से रंगते है कि गोले का कुछ भी भाग बचा न रह पाए।

OMR तकनीक का प्रयोग बैंकिंग क्षेत्र में ,बीमा कंपनियों में विभिन्न एप्लीकेशन को भरने के लिए ,सर्वे एजेंसियों में, परीक्षाओं का संचालन करने वाली एजेंसियां तथा परीक्षा आयोग द्वारा होता है ,फीडबैक प्राप्त करने कंपनियां OMR सीट का प्रयोग करतीं है ,इनमे उत्तर दाता को तीन विकल्पों में एक विकल्प का चयन करना पड़ता है।

OMR का क्या तात्पर्य होता है---

 विभिन्न ऑफिस में दस्तावेजो (documents)को एकत्र रखने में , विभिन्न प्रकार के सर्वेक्षणों (survey) जो CSO आदि भारत सरकार के  संस्थान तथा प्राइवेट सर्वे कंपनियां करती रहतीं है,उसमे OMR टेकनीक का प्रयोग होता है ,आज कल ज्यादातर परीक्षा बोर्ड/विश्वविद्यालय/संस्थान एक दिवसीय परीक्षाएं कराते है ,इन एक दिवसीय परीक्षाओं में सही वैकल्पिक उत्तरों के सामने के गोले को पूरी तरह काला करने का निर्देश परीक्षा बुकलेट में दिया रहता है। एक भी प्रश्न के अधूरे रंग जाने पर विद्यार्थी के उस प्रश्न के सही उत्तर को भी कंप्यूटर शून्य  मान लेता है क्योंकि इन OMR सीट का मैन्युअली निरीक्षण नही होता इसलिए बहुत सावधानी से परीक्षार्थी को पूरा गोला काला करने की हिदायत दी जाती है।omr में किसी अन्य गोले में टिक मार्क या क्रॉस का निशान नही लगाना चाहिए।

 One Day Exam की कॉपी कैसे (answer sheet) जांची जाती हैं--------

OMR को जब स्कैनर से गुजारा जाता है तो स्कैनर से लेजर लाइट निकलती है ,लेज़र लाइट में काले गोले में कम तीव्रता से प्रकाश परावर्तित होता है वही जहां कुछ भी नहीं भरा गया खाली जगह है वहां पर लेजर प्रकाश की  तीव्रता अधिक होती है , इस लेजर लाइट को सॉफ्टवेयर  रकॉग्निशन (पहचान करता है)करता है और सही गोले को काउंट करके परीक्षार्थी के कुल(total) अंक (marks)बता देता है।

 OMR के लाभ----

 1)समय की बचत ---

OMR सीट के जांचने में लगभग दस हजार आंसर सीट को एक घण्टे में कंप्यूटर की मदद से जांच सकते है , जबकि यदि OMR का उपयोग नही करते तो बहुत ही ज्यादा समय लगता है।

 2)कम गलतियां--

OMR से सर्वे करने डेटा एकत्रीकरण में बहुत जल्दी होने के गलतियां भी बहुत कम होती है । जब आप कीबोर्ड से डेटा एकत्र करते हो उसे इनपुट करते हो तो तारीख आदि में ग़लती हो जाती है ,जब हम किसी उत्पाद का त्वरित (fast) सर्वेक्षण करते है तो बिना गलती के शीघ्रता से रिजल्ट मिल जाता है।

OMR के नुकसान --

OMR में नुकसान भी है यदि हमने उत्तर पत्रक में कहीं भी छोटा सा बिंदु दूसरे गोले में छोड़ दिया ,  या फिर गोले के बाहर तक काला कर दिया या फिर गोले के अंदर धोखे  से भी कोई लाइन खिंच गई  तब भी उत्तर अमान्य हो जाएगा यदि दो गोलों में स्याही लगी है। यदि आप एक बार उत्तर पत्रक में गोला काला कर देते हो तो फिर उसे सही नही कर पाते।

 सर्वेक्षण (survey) करने में यदि एक ही विकल्प है तो  OMR काम नही करेगा। यानी OMR तभी सफल हो सकता है जब किसी प्रश्न में  एक से अधिक विकल्प हों ।

निष्कर्ष---

 इस तरह निष्कर्ष रूप में हम कह सकते है कि OMR तकनीक से एक दिन में ही परीक्षा का रिजल्ट आ सकता है तो परीक्षार्थियों के धोखे के लिए OMR दूसरा मौका नही देता प्रश्न सही करने के लिए।

पढ़ें-SSC का full form क्या है?



Comments

  1. Content आपने काफी अच्छा लिखा है | Theme जरुर change करे इससे आपका ब्लॉग और अच्छा लगेगा |

    ReplyDelete
  2. Robins Raj जी मेरे ब्लॉग में सर्च करने के लिए आपको धन्यवाद, अवश्य सुधार करूँगा।

    ReplyDelete

Post a Comment

Please do not enter any spam link in this comment box

Popular posts from this blog

नव पाषाण काल का इतिहास Neolithic age-nav pashan kaal

Gupt kaal ki samajik arthik vyavastha,, गुप्त काल की सामाजिक आर्थिक व्यवस्था

Tamra pashan kaal| ताम्र पाषाण युग The Chalcolithic Age