Posts

राम वी. सुतार मूर्तिकार की जीवनी

Image
 राम वी सुतार मूर्तिकार की जीवनी---- राम वी सुतार का प्रारंभिक जीवन ---राम वी सुतार का जन्म 19 फरवरी 1925 को जिला धूलिया  ग्राम गुंदूर महाराष्ट्र में हुआ था राम जी सुतार भारत के सुप्रसिद्ध मूर्तिकार है इनका पूरा नाम राम वन जी सुतार है ,इनके पिता गाँव मे ग़रीब परिवार से थे ,इनका विवाह 1957 में प्रमिला से हुआ ,इनके पुत्र का नाम अनिल रामसुतार है जो पेशे से वास्तुकार हैं और नोयडा में रहते हैं।   शिक्षा -- इनकी शिक्षा इनके गुरु रामकृष्ण जोशी से प्रेरणा लेकर जे जे स्कूल ऑफ आर्ट में हुआ,1953 में इनको इसी कॉलेज से मोडलिंग विधा में गोल्ड मेडल मिला। कार्य - 1958 में आप सूचना प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार के दृश्य श्रव्य विभाग में तकनीकी सहायक भी रहे 1959 में आपने स्वेच्छा से सरकारी नौकरी त्याग दी और पेशेवर मूर्तिकार बन गए  मोडलर के रूप में औरंगाबाद  आर्कियोलॉजी मे  रहते हुए 1954 से 1958 तक आपने अजंता और एलोरा की प्राचीन  मूर्तियों की पुनर्स्थापन का काम किया।   आप द्वारा निर्मित कुछ मूर्तियां इस प्रकार है -- आपने 150 से अधिक देशों में गांधी जी की मूर्तियां को बनाया --आपने 45 फुट ऊंची चंबल नदी मूर्

वीरेश्वर सेन चित्रकार की जीवनी

Image
  वीरेश्वर सेन चित्रकार की जीवनी- जन्म- -वीरेश्वर सेन का जन्म 15 नवंबर 1897 में कोलकाता में हुआ था ।   शिक्षा --वीरेश्वर से ने 1918 में स्नातक किया और 1921 में अंग्रेजी विषय से M.A. की डिग्री हासिल की और 2 साल बाद 1923 में बिहार के नेशनल कॉलेज पटना में अंग्रेजी के प्राध्यापक पद पर नियुक्त हो गए।  कला के प्रति झुकाव वीरेश्वर सेन अंग्रेजी विषय के प्राध्यापक तो बन गए लेकिन उसमें उनका मन नहीं लगा और उनका झुकाव कला की तरफ होने लगा इसी कारण उन्होंने अंग्रेजी प्रवक्ता के पद से इस्तीफा दे दिया ।    कला की शुरुआत --- इंडियन सोसायटी आफ ओरिएंटल आर्ट कोलकाता से कुछ समय तक कला की शिक्षा ग्रहण की, 1926 में उन्होंने लखनऊ स्कूल आफ आर्ट एंड क्राफ्ट में प्राचार्य पद पर कार्य किया और उनके प्रयासों से ही लखनऊ में सेंट्रल डिजाइन की स्थापना हुई इसके प्रथम निदेशक भी यही नियुक्त हुए    ----कला जगत में वीरेश्वर सेन  "मोशाय" के रूप में लोकप्रिय रहे । --वीरेश्वर सेन प्रारंभ से आकृति चित्रों के चित्रकार के रूप में जाने जाते थे।  --1932 में यह रूसी चित्रकार निकोलस रोरिक से मिले और उनसे प्रभावित होकर कई च

नलिनी मालानी(Nalini Malani) भारतीय आर्टिस्ट की जीवनी

Image
  नलिनी मालानी आर्टिस्ट की जीवनी--Nalini Malani Biography नलिनी  मालानी समकालीन भारती कलाकार हैं इनका जन्म 1946 में कराची पाकिस्तान में हुआ था नलिनी मालानी का परिवार भारत विभाजन के बाद कोलकाता में आकर बस गया कुछ वर्षों बाद इनका परिवार कोलकाता से मुंबई स्थानांतरित हो गया  नालिनी मालानी   ने मुंबई के जे. जे. स्कूल आफ आर्ट से ललित कला में डिप्लोमा प्राप्त किया इसी पढ़ाई के दौरान बीच में वह भूलाभाई मेमोरियल इंस्टिट्यूट मुंबई के स्टूडियो में जाती थी वहां पर वह संगीतकारों से कलाकारों से नृत्य क्यों से और थिएटर के आर्टिस्ट से व्यक्तिगत रूप से मिलती थी और उनके साथ कई कला विधाओं में कार्य भी करती थी। नलिनी  मालानी  ने स्नातक की पढ़ाई के दौरान ही फोटोग्राफी का प्रशिक्षण लिया साथ में कुछ दिन फिल्म में भी कला संबंधित बारीकियों को जाना नलिनी मालानी   ने को 1970 से 72 के बीच फाइन आर्ट के अध्ययन के लिए फ्रेंच सरकार से से एक स्कॉलरशिप मिली। इसी तरह 1984 से 1989 तक नलिनी मालानी   को भारत की सरकार द्वारा कला फैलोशिप मिला । नलिनी   मालानी  आपके प्रारंभिक चित्र कैनवास पर एक्रेलिक तथा कागज पर वाटर कलर में

Nandlal Bashu नंदलालबसु की जीवनी

Image
Nandlal Bashu नंदलालबसु की जीवनी   नंदलाल बसु की जीवनी (Biography of Nandlal Basu)     नन्दलाल बसु का जन्म 3 दिसंबर 1883 को हुआ था,इनके पिता का नाम पूर्णचंद्र बसु था जो बिहार खड़कपुर के स्थापत्य शिल्पकार थे, नंदलाल बसु की माता क्षेत्रमणि संपन्ना थीं,दुर्भाग्य से जब नंदलाल बसु सिर्फ़ आठ साल के थे तभी उनकी माता का निधन हो गया था,सोलह वर्ष की आयु में उन्होंने माध्यमिक शिक्षा प्राप्त की वो जब इंटरमीडियट में थे और संस्कृत व्याकरण  विषय भी पढ़ते थे तब भी आड़ी तिरछी रेखाएं खींचा करते थे,इसके कारण वो फेल हो गए ,फेल होने पर उनको कॉमर्स विद्यालय में एड्मिसन मिला किंतु वो वहां भी फेल हो गए।    इसके बाद कलकत्ता आ गए,उन्होंने जनरल असेम्बली कॉलेज में एडमिसन लिया,किंतु वो कॉलेज के बंद जीवन से ऊब गए,उनकी शिक्षा के दौरान कला में रुझान जारी रहा वो अन्य विषय को उतना ध्यान लगाकर नहीं पढ़ सके क्योंकि वो अपने शिक्षण से बचे ज़्यादातर समय मे कला का ही अभ्यास करते रहते थे।30 वर्ष की आयु में इन्होंने "कलकत्ता स्कूल ऑफ आर्ट्स" में प्रवेश लिया ,इस समय ई. वी. हैवेल आर्ट स्कूल के प्रिंसिपल थे और अवनींद्र नाथ टै

जोगीमारा की गुफा और चित्र

Image
  जोगीमारा  की गुफा:- जोगीमारा की गुफाएं छत्तीसगढ़ राज्य के वर्तमान अम्बिकापुर जिले (पुराना नाम सरगुजा  जिला) में स्थित है, गुुफ़ा नर्मदा के उद्गम स्थल में "अमरनाथ" नामक जगह पर है और अमरनाथ नामक यह जगह रामगढ़ नामक पहाड़ी पर स्थित है साथ में अमरनाथ नामक यह जगह एक तीर्थ स्थल है। यहां पर पहुंचने के लिए हाँथी की सवारी करनी पड़ती है क्योंकि उबड़ खाबड़ जगह है। जोगीमारा गुफ़ा के पास एक अन्य गुफा भी है ये सीता बोगड़ा या फिर सीतालँगड़ा गुफ़ा के नाम से जानी जाती है। यह गुफा प्राचीन काल मे एक प्रेक्षागृह या नाट्यशाला थी,जिसमें सुतानकी नामक गणिका या देवदासी रहती थी। बाद में इस गुफा से प्राप्त विषयों का अध्ययन  और यहां से प्राप्त लेख के अध्ययन के  बाद ये पता चलता है कि ये वरुण देवता का मंदिर था और इस मंदिर में देवता के पूजन पाठ सेवा के लिए सुतनिका नामक देवदासी रहती थी। इन गुफा चित्रों में जैन धर्म का प्रभाव दिखता है। उन चित्रों में कुछ लेख तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व के हैं और कुछ बाद के लेख हैं।   इन चित्रों का समय 300 ईसा पूर्व ,इन चित्रों के कुछ विषय सांची और भरहुत की कला से साम्यता  प्रकट करतें हैं

Bitcoin क्या है|कैसे काम करता है| कैसे कमाया जा सकता है?

Image
  Bitcoin क्या है|कैसे काम करता हैऔर कैसे कमाया जा सकता है? बिटकॉइन एक आभासी मुद्रा है जिसे अंग्रेजी भाषा मे क्रिप्टो करेंसी कहते है क्रिप्टो करेंसी कई एक हैं उनमें से एक का नाम बिटकॉइन है , बिटकॉइन एक आभासी मुद्रा है  जिसे आप  छुकर या टटोल कर नहीं देख सकते हो। बिटकॉइन का न तो   नोटों के रूप में या सिक्कों के रूप में लेन देन होता है  न ही  आप  बिटकॉइन को अपने रुपये रखने वॉलेट या पर्स या बटुआ  में  रख सकते हो जैसे  दूसरे नोट और सिक्के को पर्स में रखते हो ।       Bitcoin सिर्फ कम्यूटर  नेटवर्किंग  से बने  एक  डिजिटल वॉलेट में रखे जा सकते हैं जिसमे बिटकॉइन मूल्यों के रूप में रखे जाते हैं जब बिटकॉइन को किसी दूसरे के पास भेजा जाता है तो भेजने जाने वाले व्यक्ति की अन्य जानकारी कोई चुरा नहीं पाता क्योंकि यह peer to peer ट्रांसेक्शन होता है हर लेन देन में एक नए ब्लॉक का निर्माण होता है जो पूरे कंप्यूटर नेटवर्क से जुड़े रहते है।  बिटकॉइन का कोई एक मालिक नहीं है।यानी किसी एक व्यक्ति का स्वामित्व नहीं है। बिटकॉइन को कंट्रोल करने के लिए कोई सेंट्रलाइज अथॉरिटी नहीं है। कई अर्थ शास्त्रियों ने त

शंखों चौधरी मूर्तिकार की जीवनी|shankho chaudhari sculpture biography

Image
 शंखों चौधरी मूर्तिकार की जीवनी| शंखो चौधरी मूर्तिकार की जीवनी  (25 फरवरी 1916 - 28 अगस्त 2006) जन्म --शंखों चौधरी का जन्म 25 फरवरी 1916 को संथाल परगना  बिहार में हुआ था। मृत्यु- -28 अगस्त 2006 को नई दिल्ली में (शंखों चौधरी)     शंखों चौधरी    एक भारतीय मूर्तिकार थे, जो भारत के कला परिदृश्य में एक प्रसिद्ध व्यक्ति थे।  (यद्यपि  उनका वास्तविक में उनका नाम नर नारायण रखा गया था, वे अपने घरेलू-नाम शंखो से अधिक व्यापक रूप से जाने जाते थे।    आपने  प्रसिद्ध मूर्तिकार राम किंकर बैज से  शिक्षा ग्रहण की ।  जिससे वह पेरिस में मिला था।      शंखों चौधरी के मूर्तिशिल्प के विषयों में महिला आकृति और वन्य जीवन शामिल हैं।      उन्होंने मीडिया की एक विस्तृत श्रृंखला में काम किया था और बड़े पैमाने पर राहत और मोबाइल दोनों का निर्माण किया है।     आपने लकड़ी,धातु ,टेराकोटा ,प्रस्तर (काला और सफेद संगमरमर)।का प्रयोग किया है ,आपकी मूर्तिशिल्प में वक्राकार रूप प्रदान कर उनको जीवंत बनाने की। कोशिश हुई है।     आपने पिजन ,पिकॉक,बर्ड,हैंड ऑफ द गर्ल,राय लिट्,खड़ी आकृतियां ,कर्व आकृतियां,शीर्षक हीन आकृतियां बनाई। टॉयल