Satish Gujral Artist की जीवनी हिंदी में

Image
    सतीश गुजराल आर्टिस्ट की जीवनी--  Biography of  Satish Gujral Artist --   सतीश गुजराल बहुमुखी प्रतिभा के धनी एक प्रसिद्ध भारतीय चित्रकार,मूर्तिकार वास्तुकार,लेखक हैं जिनका जन्म 25 दिसंबर 1925 को झेलम पंजाब (जो अब पाकिस्तान में है) में हुआ था।इनको देश के दूसरे सर्वोच्च सिविलियन अवार्ड पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।इनके बड़े भाई इंद्रकुमार गुजराल 1997 से 1998 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे है।जो भारत के 13 वें प्रधानमंत्री थे। सतीश गुजराल का बचपन--    जब सतीश गुजराल मात्र 8 साल के थे तब उनके साथ एक दुर्घटना हो गई उनका पैर  एक नदी के पुल में फिसल गया वह जल धारा में पड़े हुए पत्थरो से गंभीर चोट लगी पर  उन्हें बचा लिए गया,इस दुर्घटना के  कारण उनकी टांग टूट गई तथा सिर में गंभीर चोट आई,सिर में गंभीर चोट के कारण उनको एक  सिमुलस नामक बीमारी ने घेर लिया जिससे  उनकी श्रवण शक्ति चली गई। उनकी श्रवण शक्ति खोने,पैर में चोट लगने के कारण उनको लोग लंगड़ा,बहरा गूंगा समझने लगे।वह पांच साल बिस्तर में ही लेटे रहे,यह समय उनके लिए बहुत ही संघर्ष पूर्ण था।इसलिए वह अकेले में खाली समय बैठकर रेखाचित्र बनाने लगे। 

Aneesh kapoor आर्टिस्ट की जीवनी

 अनीश कपूर का जन्म 12 मार्च 1954 को मुम्बई में हुआ था ,उनके पिता एक  इण्डियन पंजाबी हिन्दू थे ,उनकी माता यहूदी परिवार से थे ,अनीश कपूर के नाना पुणे के यहूदी मंदिर जिसे सिनेगॉग कहते है के एक कैंटर थे। 

Aneesh kapoor आर्टिस्ट की जीवनी
(अनीश कपूर)

        इनके पिता भारतीय नौ सेना (NEVY)मैं जल वैज्ञानिक (Hydrographer) थे,अनीश कपूर के एक भाई टोरंटो कनाडा के यार्क विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर हैं।

 अनीश कपूर की शिक्षा--

अनीश कपूर की प्रारंभिक शिक्षा दून स्कूल देहरादून में हुई,प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद सन 1971 में अनीश कपूर  इजराइल चले गए ,वहां पर उन्होंने इलेक्ट्रिकल  इंजीनियरिंग के लिए इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन लिया ,परंतु उनकी गणित में अरुचि होने के कारण छै महीने बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ दिया,तब उन्होंने एक आर्टिस्ट बनने का निश्चय किया।वह इंग्लैंड गए यहां पर होर्नसे कॉलेज ऑफ आर्ट में एडमिशन लिया और चेल्सिया स्कूल ऑफ आर्ट एंड डिज़ाइन में कला का अध्ययन किया।

अनीश कपूर की  महत्वपूर्ण संरचनाये और स्कल्पचर--

अनीश कपूर ने  1979-1980 में 1000 Names नामक  इंस्टालेशन बनाये आपने ये स्कल्पचर और संरचनाओं  में अमूर्त ज्यामतीय  संरचनाएं बनाईं जो पाउडर पिग्मेंट के प्रयोग से बनीं थीं जिनको दीवारों और जमीन पर एक विशेष ढंग से फिट किया गया था।

1980 और 1990 के दौरान कपूर की पहचान बायोमॉर्फिक (Biomorphic) स्कल्पचर और इंस्टालेशन आर्ट के लिए  हो गई ये इंस्टालेशन विभिन्न प्रकार के पदार्थों पत्थर ,रेजिन के बने होते थे ,जिनमें एक गुरुत्व था गहराई थी और उसमें एक आभासी प्रतिबिम्ब बनता था।

    1990 में कपूर ने  ब्रिटेन के वेनिस बिनाले में एक इंस्टालेशन बनाया जिसका नाम void field रखा,इसमें बलुआ पत्थर से बनी विशाल ईंटों की एक ग्रिड बनी होती थी।

   2002 में एक इंस्टालेशन टेट मॉडर्न आर्ट गैलरी लंदन  में बनाया गया  इसका नाम दिया गया marsyas ,यह इंस्टालेशन तीन बड़ी बड़ी स्टील रिंग को जोड़कर  550 फ़ीट लाल प्लास्टिक झिल्ली को फैलाकर  एक बड़े से हाल में बनाया गया था।

(Marsyas)

 इसी तरह 2004 में कपूर ने क्लाउड गेट नामक इंस्टालेशन शिकागो मिलेनियम पार्क में बनाई जो 110 टन की दीर्घबृत्तिय (elliptical Archway )आर्कवे है जो पोलिश किये हुए स्टील की संरचना है।

Aneesh kapoor आर्टिस्ट की जीवनी
(क्लाउड गेट)

     2006 में कपूर ने 35 फ़ीट की इंस्टालेशन  जिसका नाम था sky mirror यह एक स्टेनलेस स्टील की बनाई  रचना थी जिसमे पॉलिश किया गया था और उसे चमकदार बनाया गया था।यह इंस्टालेशन न्यूयार्क शहर के रॉकफेलर सेंटर में बनाया गया था। 

Aneesh kapoor आर्टिस्ट की जीवनी

 2011 में अनीश कपूर ने आर्सेलर मित्तल ऑर्बिट नामक एक इंस्टालेशन तैयार किया जो घुमावदार ,चक्करदार स्टील पाइप से बनी विशालकाय संरचना थी, जिसको 2012 के ओलंपिक खेल पार्क में बनाया गया था।

Aneesh kapoor आर्टिस्ट की जीवनी
(आर्सेलर मित्तल ऑर्बिट)

2011 में एक अन्य संरचना फ्रांस में बनाई थी जिसका नाम था डर्टी कार्नर (Dirty Corner)

2014 में बनाया एक इंस्टालेशन जिसका नाम था Descension  यह संरचना ब्रूकलिन ब्रिज  न्यूयार्क सिटी में स्थित थी। इस संरचना को विश्व के कई अन्य हिस्सों में अलग अलग नाम से प्रदर्शित किया गया।

पुरस्कार--

कपूर को ब्रिटिश एम्पायर (CBE) ने 2003 में कमांडर ऑफ आर्डर पुरस्कार मिला ,और 2013 में knight bachelor पुरस्कार मिला।


Comments

Popular posts from this blog

नव पाषाण काल का इतिहास Neolithic age-nav pashan kaal

Gupt kaal ki samajik arthik vyavastha,, गुप्त काल की सामाजिक आर्थिक व्यवस्था

Tamra pashan kaal| ताम्र पाषाण युग The Chalcolithic Age