Aneesh kapoor आर्टिस्ट की जीवनी

Image
  अनीश कपूर का जन्म 12 मार्च 1954 को मुम्बई में हुआ था ,उनके पिता एक  इण्डियन पंजाबी हिन्दू थे ,उनकी माता यहूदी परिवार से थे ,अनीश कपूर के नाना पुणे के यहूदी मंदिर जिसे सिनेगॉग कहते है के एक कैंटर थे।  (अनीश कपूर)         इनके पिता भारतीय नौ सेना (NEVY)मैं जल वैज्ञानिक (Hydrographer) थे,अनीश कपूर के एक भाई टोरंटो कनाडा के यार्क विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर हैं।   अनीश कपूर की शिक्षा-- अनीश कपूर की प्रारंभिक शिक्षा दून स्कूल देहरादून में हुई,प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद सन 1971 में अनीश कपूर  इजराइल चले गए ,वहां पर उन्होंने इलेक्ट्रिकल  इंजीनियरिंग के लिए इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन लिया ,परंतु उनकी गणित में अरुचि होने के कारण छै महीने बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ दिया,तब उन्होंने एक आर्टिस्ट बनने का निश्चय किया।वह इंग्लैंड गए यहां पर होर्नसे कॉलेज ऑफ आर्ट में एडमिशन लिया और चेल्सिया स्कूल ऑफ आर्ट एंड डिज़ाइन में कला का अध्ययन किया। अनीश कपूर की  महत्वपूर्ण संरचनाये और स्कल्पचर- - अनीश कपूर ने  1979-1980 में 1000 Names नामक  इंस्टालेशन बनाये आपने ये स्कल्पचर और संरचनाओं  में अमूर्

लक्ष्मण पै आर्टिस्ट की जीवनी-

  लक्ष्मण पै आर्टिस्ट की जीवनी-

लक्ष्मण पै का प्रारंभिक जीवन और उनकी शिक्षा दीक्षा--

 लक्ष्मण पै का जन्म सन 1926 ईसवी को गोवा में एक सारस्वत ब्राम्हण परिवार में  हुआ था,जब ये छोटे थे तो अपने मामा के स्टूडियो में लैब बॉय के रूप में कार्य करना शुरू किया ,वह यहां पर ब्लैक एंड व्हाइट फ़ोटो बनाया करते थे, यहीं से इनको कला में रुचि जागृति हुई । इनकी कला शैली में गोवा की हरीभरी सुंदर ज़मीन ने, गोवा के शांतिपूर्ण वातावरण ने, यहां की विशिष्ट संस्कृति और यहां के आनंदप्रिय लोगों ने प्रभाव छोड़ा।

लक्ष्मण पै आर्टिस्ट की जीवनी-
(लक्ष्मण पै)

 इसी दौरान1940-42 में लक्ष्मण पै गोवा मुक्ति आंदोलन से भी जुड़े रहे इसके लिए इनको तीन बार जेल भी जाना पड़ा।

  1943 से 1947 तक लक्ष्मण पै ने जे. जे. स्कूल ऑफ आर्ट  मुंबई से कला की शिक्षा प्राप्त की ।इनको यह पर अहिवासी, शंकर पलसीकर से शिक्षा प्राप्त हुई। 

प्रारम्भ में लक्ष्मण पै की कला में अपने गुरु जनों का प्रभाव रहा ,उन्होंने भारतीय लघु चित्रण शैली में काम किया ,इनमें उन्होंने गोवा के सरल सीधे साधे धार्मिक  जीवन को चित्रित किया।इस समय के सभी चित्रों में पै ने बृक्षों को चित्रों में आधार बनाया ,अलंकृत वस्त्रों को अपने चित्रों में जगह दी। इस दौरान लक्ष्मण पै द्वारा  बनाये गए सर्वोत्तम चित्रों को 1950 में प्रदर्शनी में दिखाया गया।

1947 के बाद इन्होंने कुछ दिन जे जे स्कूल ऑफ आर्ट में बतौर शिक्षक भी काम किया और बम्बई प्रोग्रेसिव आर्टिस्ट ग्रुप के कार्यों में भी एक्टिव रहे यद्यपि वो इस ग्रुप के एक्टिव सदस्य नहीं रहे पर ,इन के मुख्य सदस्यों से जान पहचान हुई और बहुत कुछ सीखने को मिला।

पर बाद में वो फ्रांस चले गए ,यहां पर उन्होंने एस. एच. रजा से सहायता प्राप्त की और वहाँ रहने का प्रबंध हुआ और कई संस्थानों में कुछ सीखा , यहां पर इन्होंने फ्रेस्को तकनीकी का तथा एचिंग की तकनीकी को बारीकी से फ्रांस के École des Beaux-Arts संस्थान में अध्ययन किया। करीब दस साल  1951 से 1962 तक  लंदन तथा यूरोप के अनेक  नगरों में घूमें  पर लक्ष्मण पै की कला विधा में विदेशी प्रभाव बहुत ही कम पड़ा बस  थोड़ा बहुत चित्रों के संयोजन में अंतर आया और  चित्रों में कुछ ज्यामितीयकरण भी शामिल हो गया,फिर भी इनके सारे चित्रों में विषय ज्यादातर  गोवा से सबंधित रहे,वैसे तो वह सामान्यता जल रंग का चित्रण करते थे पर यूरोपीय प्रवास के दौरान तैल चित्रण भी किया ,इस माध्यम से उन्होंने अपनी माता का तथा जवाहरलाल नेहरू का व्यक्ति चित्र भी बनाया,इन चित्रों में उन्होने अपनी निजी विशेषता को जन्म दिया , इन चित्रों में रंगों के अलग अलग तान का प्रयोग किया तथा  छाया प्रकाश के लिए रंगों को धब्बो के रूप में लगाया।

 लक्ष्मन पै के चित्रों की विशेषताएं--

लक्ष्मन पै की विशेषता है कि उन्होंने अपने कई चित्र श्रृंखलाएं बनाईं इन चित्र श्रृंखलाओं को वो प्रोजेक्ट कहते थे।

 ये चित्र श्रृंखलाओं में 1955-57 में गीत गोविंद,1958 में रामायण तथा महात्मा गांधी 1959-61 में बुद्ध-जीवन,1960 में ऋतु संहार, कश्मीर के दृश्य चित्रों की श्रृंखलाएं,1964 में पर्वतीय दृश्यों की श्रृंखला बनाईं ,इनमे बुद्ध जीवन की चित्र श्रृंखला  अम्लांकन (एचिंग) माध्यम से बनी है तथा गीत गोविंद तैल माध्यम में बनी है।

पै ने  अपने आरंभिक चित्रों में पै ने चित्रों के नारी आकृतियों के वस्त्रों के अलंकरण में विशेष ध्यान दिया।

1964 में उन्होंने कई पर्वतीय दृश्यों को चित्रों का विषय बनाया ,इन चित्रों में कोई मानव  आकृति नहीं है।

1967 में वो संगीत के रागों पर चित्र बनाने लगे,जिनमे रागों के कारण जो मनः स्थितियां उत्पन्न होती हैं उनका अमूर्त शैली में चित्रण किया

 1969 में इन्होंने नृत्य पर आधारित चित्र श्रृंखला बनाई जिनमे नृत्य की  मुद्रा,अंगों ,शरीर की बदलती गतिपूर्ण  स्थितियों को  पकड़ने का प्रयत्न किया गया, उनके चित्रों में एक तरफ मन को आनंद प्रदान करने वाली सुंदरता है , तो आंतरिक तनाव तथा अचेतन की विकृतियां भी दिखाई देतीं हैं,उनका प्रस्तुतीकारण बिल्कुल अमूर्त है,उन्होंने गीले तैल रंगों के धब्बों पर कंघी से खुरच कर कंम्पन के विभिन्न आयाम उत्पन्न किये हैं,आपने सुना होगा कि कुछ ध्वनि साइंस में बताया गया है कि हर ध्वनि एक रंग को प्रदर्शित करती है ,पै के चित्र रचनाओं में आपको यही रंग और ध्वनि की सामंजस्यता दिखने लगेगी।

इन चित्रों में रेखा के स्थान पर रंगों का और ब्रश का प्रयोग किया गया।

1981-82 में राजस्थान संस्कृति रहन सहन तथा सामाजिक परिवेश के अंकन हुआ,इन चित्रों में राजस्थान के रंगीन वस्त्रों के कारण तेज रंगों का प्रयोग हुआ।

लक्ष्मण पै की मानव आकृतियां (तैल; 1972) चित्र में पुरुष और नारी आकृतियों में लोक कला पद्धति से हाँथ और पैर बनाये गए हैं,कई दृश्यों में पंचभुजाकृतियाँ ,नारी सिर ऊपर त्रिपुष्प का अलंकरण,इन चित्रों में हल्का सा तांत्रिक चित्रण दिखता है ।

इहल बिम्ब चित्र एलिफेंटा की सुप्रसिद्ध त्रिमूर्ति के संयोजन के समान दिखती है

लक्ष्मण पै की कला में लोक मुहावरों का प्रयोग हुआ है,जिसमे विशाल मछली की आँख लयात्मक रेखा में निर्मित है ,तथा घुमावदार नथुने हैं जो नवतांत्रिक कला के समीप ले जाते हैं,पुरुष प्रकृति चित्र श्रृंखला में ये प्रयोग परिलक्षित होता है।

निष्कर्ष-

इस प्रकार कहा जा सकता है कि लक्ष्मण पै ने भारतीय चित्रकला के क्षितिज में नए रूप रेखा से नए आयाम गठित किये।



Comments

Popular posts from this blog

नव पाषाण काल का इतिहास Neolithic age-nav pashan kaal

Gupt kaal ki samajik arthik vyavastha,, गुप्त काल की सामाजिक आर्थिक व्यवस्था

Tamra pashan kaal| ताम्र पाषाण युग The Chalcolithic Age