जीका वायरस रोग के लक्षण और बचाव

Image
 जीका वायरस रोग के लक्षण और बचाव--     एक साल पूर्व जीका वायरस का प्रकोप केरल और कुछ दक्षिणी भारत के राज्यों तक सुनने को मिल रहा था,आज 2021 में जीका वायरस के मरीज उत्तर भारत तक पैर पसार चुका है ,मध्यप्रदेश,गुजरात,राजस्थान  में कई जिलों में पैर पसार रहा है जीका वायरस  छोटे शहरों कस्बों तक भी फैल रहा है ,इस रोग के लक्षण वाले मरीज़ उत्तर प्रदेश के,इटावा ,कन्नौज,जालौन ,फतेहपुर में मिले हैं। उत्तर भारत और मध्य भारत तक इसके मरीज  बहुतायत में मिले हैं। कैसे फैलता है जीका वायरस-- जीका वायरस का संक्रमण मच्छरों के द्वारा होता है,वही मच्छर जिनसे डेंगू और चिकुनगुनिया होता है, यानी मच्छर काटने के बाद ही जीका वायरस फैलता है। थोड़ा सा अंतर भी है डेंगू वायरस और जीका वायरस में ,जीका वायरस  से यदि एक बार कोई संक्रमित हो जाता है ,और वह अपने साथी से शारीरिक संबंध बनाता है तो उसे भी संक्रमित कर सकता है,साथ मे संक्रमित माता के पेट मे पल रहे गर्भस्थ शिशु भी संक्रमित हो सकता है, साथ मे  जीका वायरस से संक्रमित व्यक्ति यदि कहीं ब्लड डोनेट करता है ,तो उस  ब्लड में भी जीका वायरस होता है। इस प्रकार ये खून जिसके श

Uttrakhand के प्रमुख law college

 उत्तराखंड में लॉ कॉलेज


 1-चाणक्य लॉ कॉलेज, रुद्रपुर।


 2-फैकल्टी ऑफ लॉ, आईसीएफएआई विश्वविद्यालय, देहरादून


 3-शकुंतला लॉ कॉलेज, देहरादून


 4-यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज, कॉलेज ऑफ लीगल स्टडीज


 5-इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (जिसे यूनिसन लॉ स्कूल के नाम से भी जाना जाता है), मक्कवाला ग्रीन्स, मसूरी रोड।


 6-सिद्धार्थ लॉ कॉलेज, आईटी पार्क, सहस्त्रधारा रोड के पास।


 7-लॉ कॉलेज देहरादून।


 8-सेलाकुई लॉ कॉलेज, सेलाकुई, देहरादून


 9-चंद्रवती तिवारी लॉ कॉलेज, कोटद्वार

Comments

Popular posts from this blog

नव पाषाण काल का इतिहास Neolithic age-nav pashan kaal

Gupt kaal ki samajik arthik vyavastha,, गुप्त काल की सामाजिक आर्थिक व्यवस्था

Tamra pashan kaal ताम्र पाषाण युग The Chalcolithic Age