जीका वायरस रोग के लक्षण और बचाव

Image
 जीका वायरस रोग के लक्षण और बचाव--     एक साल पूर्व जीका वायरस का प्रकोप केरल और कुछ दक्षिणी भारत के राज्यों तक सुनने को मिल रहा था,आज 2021 में जीका वायरस के मरीज उत्तर भारत तक पैर पसार चुका है ,मध्यप्रदेश,गुजरात,राजस्थान  में कई जिलों में पैर पसार रहा है जीका वायरस  छोटे शहरों कस्बों तक भी फैल रहा है ,इस रोग के लक्षण वाले मरीज़ उत्तर प्रदेश के,इटावा ,कन्नौज,जालौन ,फतेहपुर में मिले हैं। उत्तर भारत और मध्य भारत तक इसके मरीज  बहुतायत में मिले हैं। कैसे फैलता है जीका वायरस-- जीका वायरस का संक्रमण मच्छरों के द्वारा होता है,वही मच्छर जिनसे डेंगू और चिकुनगुनिया होता है, यानी मच्छर काटने के बाद ही जीका वायरस फैलता है। थोड़ा सा अंतर भी है डेंगू वायरस और जीका वायरस में ,जीका वायरस  से यदि एक बार कोई संक्रमित हो जाता है ,और वह अपने साथी से शारीरिक संबंध बनाता है तो उसे भी संक्रमित कर सकता है,साथ मे संक्रमित माता के पेट मे पल रहे गर्भस्थ शिशु भी संक्रमित हो सकता है, साथ मे  जीका वायरस से संक्रमित व्यक्ति यदि कहीं ब्लड डोनेट करता है ,तो उस  ब्लड में भी जीका वायरस होता है। इस प्रकार ये खून जिसके श

CSC का full form क्या है|

 CSC का  full form कॉमन सर्विस सेंटर ( Common Service Center) है।

  सीएससी भारत सरकार द्वारा दूरस्थ और ग्रामीण स्थानों पर ई-सेवा प्रदान करने के लिए भौतिक सुविधाएं हैं जहां पर अभी तक कंप्यूटर और इंटरनेट सेवा बिल्कुल ही उपलब्ध नहीं थी या  बहुत ही कम थी।  

 Csc में किसी एक निश्चित जगह में विभिन्न प्रकार के लेन देन होते हैं।

वे एक ही भौगोलिक स्थान पर विभिन्न लेनदेन के लिए सुविधाएं प्रदान करने के लिए बहुउद्देशीय और बहु-सेवा-एकल-बिंदु मॉडल हैं।  

एक कॉमन सर्विस सेंटर मुख्य रूप से राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस प्रोजेक्ट के तहत भारत सरकार द्वारा बनाया गया एक आईसीटी (सूचना और संचार प्रौद्योगिकी) एक्सेस प्वाइंट है।

   परियोजना की योजना देश भर में 100,000 से अधिक सीएससी के नेटवर्क के निर्माण का लक्ष्य है। 

   इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण और दूरदराज के क्षेत्रों में रहने वाले  भारतीयों को बहुत आवश्यक सेवाएं और अन्य जानकारी इंटरनेट की सहायता से  प्रदान करना है।

  सीएससी (CSC) देश के ग्रामीण और दूरदराज के क्षेत्रों में नागरिकों को  B2C  सेवाओं की मेजबानी के अलावा, सामाजिक कल्याण योजनाओं, आवश्यक सार्वजनिक उपयोगिता सेवाओं, वित्तीय, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा और कृषि सेवाओं के वितरण के लिए पहुंच बिंदु हैं।

    यह देश की भौगोलिक, क्षेत्रीय, भाषाई और सांस्कृतिक विविधता के लिए पहुँच बिंदुओं का एक अखिल भारतीय नेटवर्क है, इस प्रकार सरकार की आर्थिक, सामाजिक और डिजिटल रूप से समावेशी सरकार के जनादेश को सक्षम बनाता है। 

    सीएससी के परियोजना घटकों में मुख्य रूप से प्रौद्योगिकी, सामग्री और सेवाएँ, क्षमता निर्माण, कनेक्टिविटी और व्यवसाय मॉडल शामिल हैं।

Comments

Popular posts from this blog

नव पाषाण काल का इतिहास Neolithic age-nav pashan kaal

Gupt kaal ki samajik arthik vyavastha,, गुप्त काल की सामाजिक आर्थिक व्यवस्था

Tamra pashan kaal ताम्र पाषाण युग The Chalcolithic Age