Aneesh kapoor आर्टिस्ट की जीवनी

Image
  अनीश कपूर का जन्म 12 मार्च 1954 को मुम्बई में हुआ था ,उनके पिता एक  इण्डियन पंजाबी हिन्दू थे ,उनकी माता यहूदी परिवार से थे ,अनीश कपूर के नाना पुणे के यहूदी मंदिर जिसे सिनेगॉग कहते है के एक कैंटर थे।  (अनीश कपूर)         इनके पिता भारतीय नौ सेना (NEVY)मैं जल वैज्ञानिक (Hydrographer) थे,अनीश कपूर के एक भाई टोरंटो कनाडा के यार्क विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर हैं।   अनीश कपूर की शिक्षा-- अनीश कपूर की प्रारंभिक शिक्षा दून स्कूल देहरादून में हुई,प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद सन 1971 में अनीश कपूर  इजराइल चले गए ,वहां पर उन्होंने इलेक्ट्रिकल  इंजीनियरिंग के लिए इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन लिया ,परंतु उनकी गणित में अरुचि होने के कारण छै महीने बाद इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ दिया,तब उन्होंने एक आर्टिस्ट बनने का निश्चय किया।वह इंग्लैंड गए यहां पर होर्नसे कॉलेज ऑफ आर्ट में एडमिशन लिया और चेल्सिया स्कूल ऑफ आर्ट एंड डिज़ाइन में कला का अध्ययन किया। अनीश कपूर की  महत्वपूर्ण संरचनाये और स्कल्पचर- - अनीश कपूर ने  1979-1980 में 1000 Names नामक  इंस्टालेशन बनाये आपने ये स्कल्पचर और संरचनाओं  में अमूर्

SEX करने के प्रमुख फायदे


सेक्स(Sex) करने के प्रमुख फ़ायदे-

भारतीय जीवन मे सेक्स को संतुलित रूप से अपनाए जाने की आवश्यक क्रिया बताई गई है ,प्राचीन काल मे सेक्स में दक्ष स्त्रियों के निपुणता के लिए काम सूत्र जैसे ग्रंथों की रचना की गई है ।

परंतु आज भी भारतीय जनमानस को इस मामले में खुले रूप से चर्चा करना असामान्य बताया जाता है। परंतु आपको जानकारी हो कि  जो पति पत्नी खुशहाल और स्वस्थ जीवन जीते  है उसके पीछे उनका नियमित सेक्स जीवन और  उससे पैदा हुआ आपसी प्रेम है। जो उन्हें न केवल शारीरिक ,मानसिक रूप से मजबूत करता है बल्कि उन्हें कई रोगों से लड़ने में ताकत भी प्रदान करता है।

सेक्स(sex) लगभग हर किसी के जीवन का एक अभिन्न अंग है चाहे वह अंतरंग संबंध , संतानोत्पति और आनंद के बारे में हो।  सेक्स हमारे जीवन के भावनात्मक, शारीरिक, सामाजिक और मनोवैज्ञानिक पहलुओं को सीधे प्रभावित करता है।  इसलिए, किसी भी संभोग (sex)को दोनों भागीदारों(partner) के लिए पूर्ण होना चाहिए क्योंकि सेक्स के कई फायदे हैं। सेक्स विषय को यदि हम स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाने के दृष्टि से देखतें है तो इसके कई आयाम दिखते हैं।

SEX करने के प्रमुख फायदे

 हम सभी अक्सर सेक्स करने के शारीरिक लाभों के बारे में बात करते हैं;   जैसे  सेक्स करने से कैलोरी-बर्न होती है , सेक्स करने से निम्न रक्तचाप हो जाता है , सेक्स करने से  शरीर के प्रतिरक्षा में वृद्धि होती है  ,  सेक्स करने से स्ट्रेस फ्री माइंड  रहता है इसके अलावा भी  कई और अधिक लाभ की चर्चा होती रहती है  हालाँकि  अगर एक सही माइंड-फ्रेम और  एक विश्वसनीय साथी के साथ यदि नियमित रूप से सेक्स  किया जाता है हमारे मानसिक स्वास्थ्य पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है!


  नियमित रूप से सेक्स करने के 5 शारीरिक मानसिक स्वास्थ्य लाभ---


 (1) सेक्स से तनाव खत्म होता है--


 आज की प्रतिस्पर्धात्मक और तेजी से भागती जीवनशैली में लोगों का तनाव बढ़ना लाजमी है।  यद्यपि गंभीरता और इसके प्रभाव व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होते हैं, फिर भी तनाव का सभी पर गंभीर प्रभाव पड़ता है।

अध्ययन से पता चलता है कि गहन शारीरिक अंतरंगता डोपामाइन, एंडोर्फिन और ऑक्सीटोसिन जैसे कई good फील-गुड ’हार्मोनों की रिहाई को ट्रिगर करती है, जो तनाव-बस्टर के रूप में कार्य करते हैं।  वास्तव में, शरीर संभोग के बाद एक हार्मोन ' प्रोलैक्टिन' जारी करता है।  यह हार्मोन अक्सर विश्राम की भावना की ओर जाता है, जिसके बाद ज्यादातर मीठी नींद आती है।


(2) सेक्स आपको अपने साथी के करीब लाता है-


  नियमित सेक्स आपके साथी के साथ अंतरंगता और भावनात्मक संबंध को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।  बेशक सेक्स  करने का उद्देश्य ये नहीं होना चाहिए कि आपका पार्टनर से  रिश्ता बना रहे कोई टकराव न हो   यानी आप  सिर्फ इसलिए संभोग  न करें  जिससे आपका पार्टनर खुश रहे ,या स्त्री सोचती है कि उसके पति या बॉयफ्रेंड  की सेक्स की  इच्छा है इसलिए उस दिन या उस समय सेक्स करना चाहिए  ये बात स्वास्थ्य के लिहाज़ से फिट (fit) नहीं बैठती   ,सेक्स में मानसिक आनंद तभी आएगा जब  दोनों पार्टनर सेक्स के लिए पूरी तरह तैयार हों , सेक्स हमेशा दोनों  पार्टनर की सहमति और खुशी के बारे में है। यानी जो पति पत्नी एक दूसरे के प्रति वफादार है और सप्ताह में कम से कम दो बार सेक्स करते है वो पूर्ण स्वस्थ रहते हैं।


 फिर भी, वैज्ञानिक अध्ययन हमें बताते हैं कि ऑक्सीटोसिन, जिसे लव हार्मोन के रूप में भी जाना जाता है, तनाव को कम करता है और भागीदारों के बीच निकटता और विश्वास की भावनाओं को बढ़ाता है।  वास्तव में, एक अध्ययन में पाया गया कि जो जोड़े छह महीने से अधिक  समय से एक साथ थे यौन रूप से  भी सक्रिय थे, इन जोड़ों में उन लोगों की तुलना में ऑक्सीटोसिन हार्मोन  का आधारभूत स्तर अधिक था,बनिस्बत जो जोड़े सेक्स में लिप्त नही थे या दोनो अलग अलग रह रहे थे।


 इसके अलावा ऑर्गेज्म के बाद रिलीज होने वाला ऑक्सीटोसिन आपको उस पल के करीब होने का एहसास कराता है।


(3) सेक्स दिमाग को सक्रिय करता है--

सेक्स करने से आपके दिमाग में कई तरह की रासायनिक गतिविधियाँ होती हैं।  इस तरह की एक रासायनिक गतिविधि  से मस्तिष्क की  शक्ति अपने आप बढ़ जाती है , इसलिए यह आपकी संज्ञानात्मक (cognitive)क्षमता को बढ़ाती है।


 किए गए एक शोध से पता चला है कि महिलाओं के  यौन चरमोत्कर्ष  (ऑर्गेज़म)  के समय उनके  मस्तिष्क का  हर हिस्सा  सक्रिय हो जाता है।  इस प्रक्रिया के दौरान  महिलाओं के मस्तिष्क की कोशिकाओं तक पोषक तत्वों और ऑक्सीजन को ले जाने के दौरान रक्त प्रवाहित (blood circulation) होता है।  वास्तव में, इस दौरान  सुडोकू, क्रॉसवर्ड या मेमोरी गेम खेलने जैसी लोकप्रिय मस्तिष्क उत्तेजना गतिविधियों की तुलना में मस्तिष्क अधिक सक्रिय रहता हूं



  (4) सेक्स शरीर की कैलोरी को बर्न करता है--

आज जब ज्यादातर लोग अपने शरीर को फिट रखने के लिए जिम में पसीना बहाते है और अपने शरीर मे एकत्र अतिरिक्त चर्बी को जलाना चाहते है तो वो जिम में व्यायाम करने जाते हैं।पर आपको जानकारी हो कि सेक्स के दौरान भी उतनी कैलोरी फैट जल जाती है जितनी आपके शरीर को फिट रखने के लिए जरूरी है।


सेक्स कई स्वास्थ्य लाभों की ओर ले जाता है क्योंकि यह एक प्रकार का व्यायाम है ,जो शरीर की कैलोरी को भी बर्न(burn) करता है

  कुछ आंकड़ों के अनुसार,  सेक्स के दौरान औसतन एक  पुरुष लगभग 100 कैलोरी और महिलाएं 70 कैलोरी बर्न करतीं है ।

शोध के रिजल्ट से ये मालूम हो पाया है कि यदि  आधा घण्टा सेक्स किया जाए तो ,शरीर की  200 कैलोरी ऊर्जा पिघल सकती( burn) हैं।  यद्यपि संभोग (sex) की औसत अवधि बहुत कम होती है।


 फिर भी sex करने से , शरीर और मन पर इस तरह के सकारात्मक प्रभाव के साथ, कोई भी व्यक्ति अच्छे मूड और मन की स्थिति में रहता है । 

और एक अच्छा दिमाग एक अच्छे शरीर में रहता है।  इसलिए, जब हम स्वस्थ होते हैं, तो हम बेहतर मूड में होते हैं।


(5) फील गुड बूस्टर--

नियमित सेक्स आपको अपने बारे में अच्छा महसूस करा सकता है।  ऐसा इसलिए है क्योंकि यह आपके यौन आत्मविश्वास को बढ़ाता है, जिसका न केवल शरीर की छवि पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है, बल्कि यह भी कि आप अपने बारे में कैसा महसूस करते हैं।


 स्वास्थ्य में  अन्य शारीरिक  लाभ---

यह कहा गया है कि नियमित और स्वस्थ सेक्स जीवन दिल के स्वास्थ्य के लिए अच्छा है।  कुछ लोग यह भी कहते हैं कि इससे हृदय रोग का खतरा कम हो सकता है।यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर मेन्टेन रखता है। एक सप्ताह में दो बार सेक्स करने वालों में स्ट्रोक का खतरा कम रहता है।

वैज्ञानिकों ने ये निष्कर्ष निकाला है कि सेक्स के दौरान नाइट्रस ऑक्साइड भी निकलता है जिससे महिलाओं के मूत्र मार्ग की दीवार पेल्विक फ्लोर को मजबूती मिलती है ,उन महिलाओं को जिनके पेशाब बार बार लगती है यानी अनियमितता(incontinence) की समस्या होती है उनको फायदा मिलता है।

SEX करने के प्रमुख फायदे

नियमित सेक्स करने से शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली (immune system) भी मजबूत होती है । जिससे हमें विभिन्न रोग पैदा करने वाले बाहरी वायरस और बैक्टेरिया से लड़ने की क्षमता मिलती हैं और हम लगातार स्वस्थ रहते हैं , यानी एक अच्छा सेक्स जीवन व्यतीत करने वाले लोंगों में में कम कम बीमारियां होती हैं उन लोंगो की तुलना में जो कम सेक्स करते हैं।

 शोध में ये निष्कर्ष निकाले गए है कि उन पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर की संभावना कम होती है जो अपने युवा जीवन मे एक महीने में करीब 20 दिन सेक्स करते हैं।


यह आपके रक्तचाप को कम करता है।

सेक्स के दौरान  जो  हार्मोन पैदा होता है उसके का चिंता  और अवसाद की कम संभावना हो जाती है।

तुर्की के वैज्ञानिकों ने ये शोध किया है कि जिन लोंगों के शरीर मे 5 मिलीमीटर से छोटी पथरी गुर्दे में होती है वो सेक्स करने वाले युवकों में धीरे धीरे निकल जाती है।

निष्कर्ष--

इस प्रकार कह सकते है कि सेक्स करने से शरीर के कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं यह आपको आपके पार्टनर के न सिर्फ नजदीक लाता है बल्कि दोनो को शारीरिक और मानसिक रूप से फिट भी रखता है।


 

Comments

Popular posts from this blog

नव पाषाण काल का इतिहास Neolithic age-nav pashan kaal

Gupt kaal ki samajik arthik vyavastha,, गुप्त काल की सामाजिक आर्थिक व्यवस्था

Tamra pashan kaal| ताम्र पाषाण युग The Chalcolithic Age